जनसुनवाई में नही हुई सुनवाई, आवेदक ने खाया जहर, अधिकारियों के हाथ-पांव फूले

आगर मालवा।

लोगों की समस्याओं का जल्द निराकरण करने के लिए शासन ने जनसुनवाई की शुरुआत की थी।वर्तमान में वास्तविक स्थिति यह है कि लोगों की समस्याओं का समाधान नही हो रहा है, लोग परेशान हो रहे, अधिकारियों के चक्कर लगा रहे है, आत्महत्या करने को मजबूर हो रहे है, लेकिन इन सब के बावजूद प्रशासन द्वारा कोई सुधार नही किया जा रहा। ताजा मामला आगर मालवा से सामने आया है।यहां सुनवाई ना होने पर एक आवेदक ने चूहे मार दवा खाकर आत्महत्या करने की कोशिश की। हालांकि अधिकारियों ने उसे आनन-फानन में अस्पताल पहुंचाया, जहां उसका इलाज जारी है।

दरअसल, खेजड़िया खेड़ी गांव के निवासी रमेश पिता नंदाजी के साथ मंत्री नारायण और दो प्रभावशाली लोगों ने मारपीट कर उसकी जमीन हथियाने की कोशिश की थी। इसी की शिकायत लेकर वह कलेक्टर जनसुनवाई में पहुंचा था, लेकिन सुनवाई ना होता देख उसने चूहे मार दवा खा ली। हालांकि अधिकारियों और आसपास खड़े लोगों ने उसे तुरंत देख लिया और सीधा अस्तताल लेकर पहुंचे।फिलहाल आवेदक का वहां इलाज चल रहा है।आवेदक पेश से किसानी का काम करता है।वही घटना के बाद अधिकारियों के हाथ-पांव फूल गए है।  और सभी के सामने जहर खा लिया। गंभीर हालत में उसका अस्पताल में इलाज जारी है।