Breaking News
प्रशासन बता रहा 'डेंगू' छुआछूत की बीमारी | किसकी होगी पूरी मुराद, आज महाकाल के दर पर सिंधिया-शिवराज | सड़क पर सियासत : कमलनाथ बोले- बुधनी से अच्छी छिंदवाड़ा की सड़कें, शिवराज जी एक बार जरुर आए | सुल्तानगढ़ वॉटरफॉल हादसा : मौत से संघर्ष के बाद भी कैसे हार गई 9 जिंदगियां, देखें वीडियो | शर्मसार : सागर में नाबालिग से गैंगरेप, बीते दिनों ही मिला था सबसे सुरक्षित शहर का तमगा | कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने लिया विस चुनाव में भाजपा को उखाड़ फेंकने का संकल्प | केंद्रीय मंत्री की बहन को एसिड अटैक और मारने की धमकी | खाना खाने के बाद बिगड़ी तबियत, दो सगी बहनों की मौत, मां की हालत गंभीर | पूर्व राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा की जन्मशताब्दी मनाएगी सरकार : शिवराज | अस्पताल के बच्चा वार्ड में लगी आग, मची अफरा-तफरी, 35 बच्चे थे भर्ती |

इस देश में आरक्षण था, आरक्षण है और आरक्षण रहेगा : कैलाश विजयवर्गीय

आगर-मालवा।

बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने आरक्षण मुद्दे पर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने दो अप्रैल को हुई हिंसा को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा है। उन्होने कहा कि कांग्रेस ने हमेशा से ही दलितों को भ्रम में डालने का काम किया है और एक बार फिर आरक्षण के मुद्दे को लेकर भ्रमित कर रही है। इस देश में आरक्षण था, आरक्षण है और आरक्षण रहेगा।इसे कोई नही हटा सकता।

दरअसल,बुधवार को कैलाश विजयवर्गीय आगर मालवा के नलखेड़ा में मां बगलामुखी मंदिर मार्ग चौराहे पर संविधान निर्माता बाबा साहब भीमराव रामजी अंबेडकर की प्रतिमा का अनावरण तथा 2.18 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाले सड़क मार्ग के भूमिपूजन के कार्यक्रम  में पहुंचे थे। जहां पत्रकारों से चर्चा के दौरान उन्होंने कहा कि विपक्ष ने लोगों को आरक्षण के मुद्दे पर भड़काया है, जिसके चलते प्रदेश और देश में हिंसा हुई। सुप्रीम कोर्ट ने इस एक्ट में ऐसा कोई बदलाव नहीं किया है, जिससे एससी-एसटी वर्ग को नुकसान हो या उनके आरक्षण को लेकर बात हो। इस देश में आरक्षण था, आरक्षण है और आरक्षण रहेगा।इसे कोई नही हटा सकता।

वहीं शिवराज सरकार द्वारा बाबाओं को राज्यमंत्री का दर्जा दिए जाने पर कैलाश ने कहा कि देश बाबाओं के बगैर नहीं चल सकता। उमा भारती बाबा हैं, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बाबा हैं, साधुओं का नेतृत्व समाज की दिशा तय करता है। 

गौरतलब है कि एससी एसटी एक्ट में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद देश भर में दलित संगठनों ने विरोध प्रदर्शन किया, इस दौरान कई राज्यों में हिंसा भड़की। जिसके बाद मोदी सरकार ने सोमवार को पुनर्विचार याचिका दायर करते हुए एससी/एसटी एक्ट पर पिछले महीने दिए गए सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर रोक लगाने को कहा गया है। सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में यह कहा था कि उत्पीड़न का केस दर्ज करने के बाद किसी तरह की फौरन कार्रवाई से पहले पुलिस की तरफ से प्रारंभिक जांच सात दिनों के अंदर होनी चाहिए। पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश पर कायम रहते हुए स्पष्ट किया है कि कोर्ट एससी एसटी एक्ट के खिलाफ नहीं बल्कि निर्दोष लोगों की चिंता है, इस मामले पर अगली सुनवाई दस दिन बाद रखी गई है। वहीं दलितों के मुद्दे पर देश भर में जमकर सियासत गरमाई हुई है। ऐसी स्थिति में कैलाश ने पहली बार इस मुद्दे पर खुलकर विपक्ष पर निशाना साधा है।


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...