Breaking News
विधानसभा का आखिरी सत्र कल से, 5 दिवसीय सत्र में पूछे जाएंगे 1376 सवाल | मानसून सत्र: सरकार को घेरने विपक्ष की रणनीति तैयार, PCC चीफ बोले- 5 साल का हिसाब मांगेंगे | ग्रामीण से रिश्वत लेते रोजगार सहायक कैमरे में कैद, वीडियो हुआ वायरल | जब आदिवासियों संग मांदल की थाप पर थिरके शिवराज, देखें वीडियो | MP : कांग्रेस में 3 नई समितियों का गठन, चुनाव घोषणा पत्र में कर्मचारी नेता को मिली जगह | BIG SCAM : PNB के बाद एक और बैंक में घोटाला, तीन अधिकारी सस्पेंड | IPS ने बताया डंडे के फंडे से कैसे होगा पुलिसवालों का TENSION दूर! | कपड़े दिलाने के बहाने किया मासूम को अगवा, बेचने से पहले पुलिस ने रंगेहाथों पकड़ा | इग्लैंड में अपना जलवा दिखाने पहुंचे 4 भारतीय दिव्यांग तैराक, इंग्लिश चैनल को करेंगें पार | VIDEO : केरवा कोठी पर भाजपा महिला मोर्चा का प्रदर्शन |

बलात्कार के झूठे केस से बर्बाद होती अलीराजपुर के पुरुषों की जिंदगियां

अलीराजपुर| सीबी सिंह| निभ॔या - कठुआ - उन्नाव रेप कांड  से देश भर मे जहां महिलाओं के सम्मान ओर सुरक्षा को लेकर चिंताऐ जताई जा रही है | उससे उलट मध्यप्रदेश के आदिवासी बहुल अलीराजपुर जिले के पुरुष फर्जी रेप केसों से परेशान है । विगत 2017 मे अलीराजपुर जिले मे बलात्कार के मामलों मे आये 25 केसों के फैसलों से तो यही साबित होता है| यहाँ तक कि एक रेप केस के फैसले मे अलीराजपुर की जिला एंव सत्र न्यायाधीश " शोभा पोरवाल " यह तक लिखने को मजबूर हुई कि वाकई बलात्कार के मामलों मे अलीराजपुर जिले मे हालात इसलिए चिंताजनक है ।  उन्होंने विशेष दांडिक प्रकरण क्रमांक 28 / 2015 के मामले मे 27 जुलाई 2017 को फैसला देते हुए लिखा कि "यह अंत्यंत खेद का विषय है कि बलात्संग जैसै गंभीर अपराधों से संबध कानून का उपयोग अपने अन्य व्यक्तिगत झगडों को निपटाने के लिए या आर्थिक रुप से फायदा उठाने के लिए हथियार के तोर पर किये जाने की प्रवृत्ति समाज मे बढती जा रही है जिससे आम निर्दोषजन  की मान प्रतिष्ठा पर आघात होता है एंव उन्हे आर्थिक रुप से हानि होती है" 

इसी फैसले मे जिला & सत्र न्यायाधीश ने लिखा कि "वत॔मान प्रकरण मे भी फरियादी के द्वारा रिपोर्ट लिखाया जाना ओर न्यायालयन कथन मे बताया है तथा धारा 164 ( दंड प्रक्रिया संहिता यानी Cr.p.c ) के अधीन न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी के समक्ष दिनांक 13 जनवरी 2015 को हुए कथन प्र.क्र -11 में भी प्रथम सूचना के अनुसार ही कथन किये है तथा वह कक्षा 12 वी तक पढी है ऐसी स्थति मे यह भी नहीं कहा जा सकता कि न्यायालय ने क्या लिखा है उसे नहीं मालूम तथा उसके कथन एक सक्षम न्यायालय के समक्ष हुए है पश्चात उसके द्वारा आरोपी से समझोता होना स्वीकार किया है ओर पैसै का लेन-देन होना बताया है | न्यायालय ने इस फैसले मे यह भी कहा कि सामान्यतः इस प्रकार के कई प्रकरणों मे यही स्थति सामने आती है जो कि एक विचारणीय प्रश्न है तथा इसे रोके जाने के लिए कदम उठाया जाना आवश्यक है । 


25 पीड़िताएं अपने बयान से मुकर गईं

जिला सत्र न्यायाधीश की यह टिप्पणी अलीराजपुर जिले के हालातों को बयां करने के लिए काफी है कि यहाँ पुरुषों को रेप के नाम पर फंसाया जा रहा है | सन 2017 मे जो 25 फैसले आये है उन सभी में आरोपी निर्दोष साबित हुए | दिलचस्प बात तो इन फैसलों मे यह निकली कि सभी पीडिताओ उफ॔ फरियादियों ने एफआईआर ओर कोट॔ में 164 ( cr.p.c ) के बयानों मे खुद के अपहरण ओर बलात्कार की बात कहीं लेकिन बहस के दोरान यह सभी 25 पीड़िताएं अपने बयान से मुकर गयी ओर मुकरी भी ऐसी कि यह कह डाला कि उनके साथ तो बलात्कार ही नहीं हुआ है पुलिस ने बलात्कार की धाराओं मे कैसै मामला दर्ज कर लिया उन्हे नहीं मालूम । आप कुछ मामलों की बानगी देखिए । 

-अपराध क्रमांक 98 / 14 धारा 376 / 506 ipc  - पीडिता ने कोट॔ को बताया कि उसके साथ बलात्कार की कोई घटना ही घटित नहीं हुई है ना मेडीकल हुआ ओर ना ही कोई रिपोर्ट दर्ज करवाई ।।

-अपराध क्रमांक -  26 /17 - धारा - 376 ; 506 & 3/4 पास्को एक्ट  - पीडिता ने बताया कि उसके साथ कोई घटना ही बलात्कार की नहीं हुई है ओर ना ही उसने कोई रिपोर्ट लिखवाई है पुलिस ने कैसै रिपोर्ट लिख ली उसे नहीं मालूम । 


रेप होने की घटना से इंकार के पीछे की वजह क्या ?

यही कहानी 2017 मे आये सभी 25 बलात्कार के फैसलो की है | अब सवाल उठता है कि क्या पुलिस वाकई में फर्जी केस दर्ज कर अपनी ही सरकार की बदनामी करती है या कोई ओर वजह है । यहाँ पुलिस का बचाव cr.p.c की धारा 164 कर देती है|  इस धारा मे पीडिता उफ॔ फरियादी या गवाहो के बयान सक्षम न्यायालय के समक्ष एफआईआर के तुरंत बाद पुलिस द्वारा करवाए जाते है | चुंकि एफआईआर के बाद यह बयान होते है इसलिए बयान एफआईआर के समथ॔न में ही जाते है इसलिए पुलिस का यहाँ बचाव हो जाता है । लेकिन सवाल उठता है कि आखिर मुकरने के पीछे या रेप होने की घटना से इंकार के पीछे की वजह क्या है ? इसके जवाब में ग्राम झोरा के पटेल अभयसिंह पटेल ( 58 ) कहते है कि यह आदिवासी समाज की परंपरा है कि हम हर तरह का झगडा गांव के बडे बुजुर्ग बैठकर तोड देते है इसके लिए पंचायत लगती है ओर 50 हजार रुपये के अंदर अंदर इज्जत लेने का दंड आरोपी पर लगाकर झगड़ा तोड देते है ओर समझोते के बाद आरोपी के समथ॔न में पीडिता बयान दे देती है जिसमें वह घटना होने से ही मुकर जाती है । लेकिन इससे पुलिस की दिक्कतें बढ रही है | 


निजी दुश्मनी निकालने का माध्यम बना रेप के आरोप लगाना 

अलीराजपुर के एसपी विपुल श्रीवास्तव का कहना है कि एक फैसले पर तो जिला न्यायाधीश ने टिप्पणी भी की है ओर लेन देन का उल्लेख भी किया है लेकिन इस तरह की लेन-देन का कोई सीधा सबुत नहीं मिलता इसलिए हमें भी दिक्कत होती है | लेकिन यह भी सच है कि बलात्कार के आरोप लगाना आजकल अलीराजपुर जिले मे निजी दुश्मनी निकालने का माध्यम भी बन गया है | अलीराजपुर जिले के उदयगढ थाने के खंडाला गांव के राजेश चोहान ( 34 ) कहते है कि ऐसा कोई कानून बनना चाहिए कि झुठा नाम लिखवाने वाली महिलाओं या लडकियो पर कारवाई हो सके । 


समाज मे मान सम्मान सब चला गया उसे कोन लोटाऐगा

दरअसल, राजेश ओर उसके भाई को बलात्कार के एक मामले मे नामजद किया गया था उसके भाई पर बलात्कार करने ओर राजेश चोहान पर उसकी मदद करने का आरोप था । राजेश कहते है कि उसका हाई 4 महीने ओर वह खुद 40 दिन जेल मे रहा बाद मे निर्दोष साबित होने पर जमानत मिली । लेकिन उनका परिवार परेशान हो गया समाज मे मान सम्मान सब चला गया उसे कोन लोटाऐगा ?  बलात्कार के मामलों मे फैसलों के बाद हमें एक मामले की फरियादी लडकी भी मिल गयी जो की नाबालिग थी ओर उसने एफआईआर दर्ज करवाई थी कि उसका अपहरण कर बलात्कार हुआ है लेकिन यह मामला भी कोट॔ में समाप्त हो चुका है फरियादी ने बताया कि वह क्या करती गाँव ओर समाज वालों का दबाव था कि समझोता कर लो रंजिश मत बढाओ तो समझोता हो गया ओर वह बयान बदलने को मजबूर हुई । आदिवासी समाज के एक अन्य पटेल सरदार कहते है कि कानून से हमें कोई मतलब नहीं है हमारा आदिवासी कानून ओर परंपरा अलग है उसमें झगडा आगे ना बढे ओर रंजिशें मन मे ना रखें इसलिए झगड़ा हम लोग खत्म करवाते है इसमें कोई बुराई नहीं है ओर इसलिए बरी होने वाले फैसले आते है । अलीराजपुर जिला कोट॔ में लंबे समय से वकालत कर रहे अभिभाषक दशरथ सिंह चंदेल ओर अशोक सिंह कहते है कि आदिवासी समाज की परंपरा के अनुसार पहले आदिवासी पंचायते फैसले ले लेती है ओर वही फैसले को कोट॔ में आकर लागू हो जाते है इसलिए बयान से मुकरने जैसै मामले शत प्रतिशत अलीराजपुर जिले मे होते है ।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...