कृषि मंडी में नहीं लगेगी कल से फसल की बोली

अशोकनगर| प्रदेश की बड़ी मंडियों में शुमार अशोकनगर की कृषि उपज मंडी में कल से किसानों की फसल की बोली नहीं लगाई जाएगी। ग्रेन मर्चेंट एसोसिएशन ने मंडी प्रशासन को पत्र लिखकर सूचना दी है कि ऑनलाइन खरीद एवं भुगतान में आरटीजीएस/ एनईएफटी में होने वाले बिलंब एवं विसंगतियों के कारण अनिश्चितकालीन हड़ताल जारी रहेगी।

       गल्ला व्यापारी संघ के अध्यक्ष गिरीश जैन अथाइखेड़ा ने बताया कि सरकार ने ऑनलाइन खरीदी एवं यूटीआर नम्बर के वेरिफिकेशन के बाद गेटपास जारी करने की जो व्यवस्था बनाई है वह दोषपूर्ण है।श्री जैन ने बताया कि  किसान की फसल खरीदने के बाद किसान को उपज का ऑनलाइन भुगतान करने के बाद ,बैंक द्वारा एक utr नम्बर व्यापारी को दिया जाता है।व्यापारी यह नम्बर मंडी प्रशासन को देता है।तब जा कर व्यापारी की फसल का मंडी से गेट पास बनता है।

    श्री जैन ने बताया कि किसानों को तो फसल का भुगतान  हो रहा है ।मगर इस पूरी प्रक्रिया में   व्यापारी को अपना माल बेचने में परेशानी आ रही है,उन्होने बताया कि कई बार बैंक समय पर utr व्यापारी को नही दे पा रही साथ ही कई व्यापारीयो को पूरी प्रक्रिया में तीन चार दिन तक अपनी फसल को रोके रखना पड़ता है। व्यापारी संघो की मांग है कि व्यापारियों के गेटपास बनाने की व्यवस्था पूर्ववत होनी चाहिये।

क्यो हुई ये व्यवस्था पूर्व में कई बार इस तरह की शिकायतें आई थी कि  कुछ व्यापारी किसान से फसल खरीदने के बाद भी उनका भुगतान नहीं कर रहे थे, और गेट पास बनाकर अपना माल बेच रहे थे।ईसागढ़ एवं अशोकनगर में ऐसे मामले सामने आए थे । इन शिकायतों की  जांच में यह पाया गया था कि व्यापारी किसानों से उपज खरीद का पैसा अपने पास रख लेते थे। कई मामलों में किसानों को कई कई दिन तक पैसे के लिये घुमाया जाता था ।इस अव्यवस्था से बचने के लिए एवं किसानों को सही समय पर उनकी उपज का भुगतान कराने के लिये सरकार ने  यह व्यवस्था की थी।

    कृषि उपज मंडी समिति के सचिव मनोज शर्मा ने बताया कि ग्रेन मर्चेंट एसोसिएशन के द्वारा उनको सूचना मिली है। कि कल 5 सितंबर से मंडी में बोली नहीं लगाएंगे ।इसलिए किसानों से आग्रह किया जाता है ,कि वह अपनी फसल लेकर मंडी में ना आए। साथ ही उन्होंने कहा है कि व्यापारियों की मांग को उच्च अधिकारियों के संज्ञान में लाया गया है। पूरा मामला नीतिगत है ।

"To get the latest news update download the app"