अशोकनगर पहुंचा 145 किलो चांदी से बना प्रदेश का पहला रजत रथ

अशोकनगर अलीम डायर। 

अशोक नगर जैन समाज द्वारा प्रदेश का पहला रजत रथ बनवाया गया है जो कि 145 किलो चांदी से इस रथ को राजस्थान के कारीगरों ने पाली जिले के सुमेरपुर तहशील के कोलीवाड़ा गांव में तैयार किया है इसे बनाने में 1 माह का समय लगा और लगातार सत्तर लाख रुपये खर्च हुए, जो आज सुबह अशोक नगर में पहुंच गया जिसे देखने के लिए शहरवासियों की लंबी कतार देखी गई 

विद्या नवयुवक मंडल के सदस्यों ने बताया कि कमेटी के सदस्य एक माह तक वहीं रुके जिन्होंने अपने सामने ही  कारीगरों  से रथ को तैयार कराया, रथ तैयार हो जाने के बाद जैन समाज अध्यक्ष रमेश चौधरी समाज के अन्य लोगों के साथ इस रथ को लेने के लिए पहुंचे ट्रक से रथ को शहर में लाया गया खास बात यह है कि यह रथ के लिए जैन समाज के लोगों ने चांदी दान की थी और इसी चांदी से रथ तैयार हुआ है पर्यूषण पर्व के समापन पर शहर में जैन समाज द्वारा 14 व 15 सितंबर को शोभायात्रा निकाली जाएगी, जिसमें भगवान को इसी रथ में विराजमान होकर नगर भ्रमण कराया जाएगा इसके बाद हर साल धार्मिक आयोजनों में श्रीजी की शोभायात्रा इसी रथ से निकाली जाएगी

जैन समाज के अध्यक्ष रमेश चौधरी ने बताया कि अजमेर में पहला स्वर्ण रथ बन चुका है जो देश का पहला  स्वर्ण रथ था समाज ने यह रजत पथ बनवाया है और यह रजत रथ पूरे मध्य प्रदेश में पहला सबसे बड़ा रजत रथ है समाज के लोगों द्वारा दी गई चांदी से यह रथ तैयार कराया गया है,

बही जैन पंचायत के उप मंत्री नरेश सेन बारी के मुताबिक शीशम सागौन की लकड़ी से इस रथ को तैयार किया गया है जिसे चांदी से सजाया गया है 2 मंजिल के इस रथ में चारों तरफ चांदी के चार इंद्र और भगवान नेमिनाथ की बरात से लेकर बैराग और मोक्ष तक का आकर्षक चित्र रथ के चारों तरफ दिखाया गया है,

"To get the latest news update download the app"