प्रदेश में नहीं रुक रहा आत्महत्याओं का सिलसिला, कर्ज से परेशान एक और अन्नदाता फांसी पर झूला

बड़वानी।  पांच बार कृषि कर्मण अवार्ड जीतने वाले मध्य प्रदेश में किसानों की हालत दयनीय है| किसानों के लिए ढेरों योजनाएं प्रदेश में सरकार द्वारा चलाई जा रहे है, एक दिन पहले ही विधानसभा में पेश बजट में किसानों के लिए एक बड़ा हिस्सा देने का फैसला हुआ है, सरकार किसानों की खुशहाली का दावा कर रही है, लेकिन जमीनी हकीकत अलग ही है| प्रदेश में किसानों की आत्महत्याओं का सिलसिला रुकने का नाम नहीं ले रहा है| आज एक और किसान ने खेत में जाकर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली| किसान का शव पेड़ पर लटका मिला| 

प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले के पानसेमल तहसील के ग्राम जलगोन निवासी किसान नरोत्तम पिता कृष्णा का शव गुरूवार सुबह खेत में पेड़ पर झूलता पाया गया है। बताया जा रहा है कि नरोत्तम कर्ज था। किसान ने बैंक ऑफ इंडिया से क्राप लोन के रूप में 3 लाख 50 हजार रुपए 2015 में लिए थे, जो जमा नहीं कर पाने पर के कारण कर्ज बढ़कर  4 लाख 25 हजार हो गया था, जो बकाया था। इस घटना की जानकारी मिलने के बाद ही ग्रामीणों की भीड़ लग गई|  सुचना पर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर जांच की और पोस्ट मार्टम पश्चात शव परिजनों को सौंपा गया। मौत के कारणों की जांच की जा रही है। किसान के शव के पास से सुसाइट नोट या अन्य कोई दस्तावेज नहीं मिला है।