Breaking News
कांग्रेसी विधायक ने मर्यादाएं की तार-तार | विधानसभा चुनाव के लिए 'आप' ने जारी की पांचवी लिस्ट, यह होंगे प्रत्याशी | CM की PC: केरल बाढ पीड़ितों को 10 करोड़ की आर्थिक सहायता, अटल जी को लेकर भी कई ऐलान | भितरघात की चिंता: दावेदारों से भरवाए शपथ पत्र, 'टिकट नहीं मिली तो भी पार्टी हित में काम करूंगा' | राहुल गांधी का ऐलान- केरल बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए 1 महीने की सैलरी देंगे कांग्रेस के सांसद-विधायक | MP : इन दो महिला आईएएस के निशाने पर 'भ्रष्ट-लापरवाह' अधिकारी | MR.बैचलर बनकर हाईप्रोफाइल लड़कियों को निशाना बनाता था लुटेरा दूल्हा, 4 राज्यों में थी तलाश | पुलिस को पीटने वाले थाने से ससम्मान विदा, नशे में धुत लड़कियों ने हाईवे पर मचाया था उत्पात | Asian Games 2018 : आज से होगा एशियन गेम्स का रंगारंग आगाज, इतिहास रचने को तैयार भारत | दो सांसदों की चिट्ठी के बीच अटकी शिप्रा एक्सप्रेस! |

पुलिस ने मांगी रिश्वत, युवक ने थाने के बाहर ही खुद को लगा ली आग

बड़वानी

मध्यप्रदेश के बड़वानी जिले में एक युवक द्वारा थाने परिसर मे आत्महत्या की कोशिश करने का मामला सामने आय़ा है।पुलिस ने एक युवक को हिरासत में लेकर थाने में पिटाई की। इसके बाद बंद युवक के भाई श्यामू ने देर रात थाने के गेट के सामने खुद को आग लगा ली। घटना के बाद थाने में हड़कंप मच गया। पुलिस ने गंभीर हालत में श्यामू को अस्पताल में भर्ती करवाया है, जहां उसका इलाज चल रहा है।श्यामू ने थाना प्रभारी सहित कर्मचारियों पर एक लाख की रिश्वत मांगने का आरोप लगाया है। और पैसे ना देने पर  झूठे केस में फंसाने की धमकी दी है।हालांकि पुलिस ने इन आरोपों को झूठा बताया है। फिलहाल मामले की जांच की जा रही है।

जानकारी के अनुसार, बड़वानी पुलिस ने अवैध शराब के परिवहन मामले में रामू काग को बुधवार को हिरासत में लिया था।  भाई के गिरफ्तार होने की सूचना पर भाई श्यामू उसे छुड़वाने थाने पहुंचा था। पुलिस ने भाई को छोड़ने से इनकार कर दिया और उसे वापस जाने को कहा दिया।थाने से बाहर आए श्यामू ने परिसर में ही आत्मदाह की कोशिश की। पुलिस ने ऐसा करते देख उसे बचाया और अस्पताल लेकर पहुंची।

पीड़ित श्यामू का आरोप है कि पुलिस ने उसके भाई रामू को बिना किसी आरोप के हिरासत में ले लिया है। पुलिस उसे छोड़ने के एवज में एक लाख रुपए रिश्वत की मांग की थी। पैसे ना देने पर उसके भाई को झूठे केस में फंसा देने की बात कहीं ।जबकि पुलिस ने सभी आरोपों को झूठा बताया है। वही श्यामू का आरोप है कि पुलिस ने उसके साथ मारपीट भी की है। इसी से आहत होकर उसने यह कदम उठाया।घटना के बाद परिजन व ग्रामीण थाने पहुंचे तब कही जा कर रामू को थाने से कोरे कागज पर साइन करके छोड़ा गया।


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...