Breaking News
पिपलिया मंडी बैंक डकैती मामले में SIMI आतंकी अबू फैजल सहित अन्य साथियों को उम्रकैद की सजा | भाजपा विधायक के बेटों पर उत्तर प्रदेश में हुई FIR दर्ज | शिवराज का तीखा हमला "दिग्विजय की हो गई मति भ्रष्ट, जब देखो हिंदू आतंकवाद" | विकल्प मिलते ही खाली करुंगी बंगला : उमा भारती | International Yoga Day : सजायाफ्ता कैदियों ने भी किया योग, जमकर लगाए ठहाके | मोदी के कार्यक्रम में शामिल होने गुलाब का फूल देकर लोगों को निमंत्रण दे रही भाजपा | नेता प्रतिपक्ष ने पीएम को लिखा पत्र, ई-टेंडरिंग घोटाले की हो निष्पक्ष जांच | मलेशिया में फंसा एमपी का युवक, परिवार ने विदेश मंत्री से लगाई मदद की गुहार | पासपोर्ट बनवाने पहुंचे दंपती, अधिकारी ने दी धर्म बदलने की नसीहत, ट्रांसफर | सुषमा के संसदीय क्षेत्र में किसान पुत्र ने दी आत्महत्या की धमकी...1 घंटे में मिला फसल का पैसा |

पुलिस ने मांगी रिश्वत, युवक ने थाने के बाहर ही खुद को लगा ली आग

बड़वानी

मध्यप्रदेश के बड़वानी जिले में एक युवक द्वारा थाने परिसर मे आत्महत्या की कोशिश करने का मामला सामने आय़ा है।पुलिस ने एक युवक को हिरासत में लेकर थाने में पिटाई की। इसके बाद बंद युवक के भाई श्यामू ने देर रात थाने के गेट के सामने खुद को आग लगा ली। घटना के बाद थाने में हड़कंप मच गया। पुलिस ने गंभीर हालत में श्यामू को अस्पताल में भर्ती करवाया है, जहां उसका इलाज चल रहा है।श्यामू ने थाना प्रभारी सहित कर्मचारियों पर एक लाख की रिश्वत मांगने का आरोप लगाया है। और पैसे ना देने पर  झूठे केस में फंसाने की धमकी दी है।हालांकि पुलिस ने इन आरोपों को झूठा बताया है। फिलहाल मामले की जांच की जा रही है।

जानकारी के अनुसार, बड़वानी पुलिस ने अवैध शराब के परिवहन मामले में रामू काग को बुधवार को हिरासत में लिया था।  भाई के गिरफ्तार होने की सूचना पर भाई श्यामू उसे छुड़वाने थाने पहुंचा था। पुलिस ने भाई को छोड़ने से इनकार कर दिया और उसे वापस जाने को कहा दिया।थाने से बाहर आए श्यामू ने परिसर में ही आत्मदाह की कोशिश की। पुलिस ने ऐसा करते देख उसे बचाया और अस्पताल लेकर पहुंची।

पीड़ित श्यामू का आरोप है कि पुलिस ने उसके भाई रामू को बिना किसी आरोप के हिरासत में ले लिया है। पुलिस उसे छोड़ने के एवज में एक लाख रुपए रिश्वत की मांग की थी। पैसे ना देने पर उसके भाई को झूठे केस में फंसा देने की बात कहीं ।जबकि पुलिस ने सभी आरोपों को झूठा बताया है। वही श्यामू का आरोप है कि पुलिस ने उसके साथ मारपीट भी की है। इसी से आहत होकर उसने यह कदम उठाया।घटना के बाद परिजन व ग्रामीण थाने पहुंचे तब कही जा कर रामू को थाने से कोरे कागज पर साइन करके छोड़ा गया।


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...