मंडी में सैकड़ो क्विंटल अवैध चना बरामद, व्यापारियो में मचा हड़कंप

बैतूल।। हेमंत पवार ।।

कृषि उपजमंडी बैतूल में सैंकड़ों क्विंटल अवैध चना जिला प्रशासन की टीम ने बरामद किया है। अब जरूर मिलीभगत वाली टीम चने को सही साबित करने में जुटी है। 

गौरतलब है कि कलेक्टर शशांक मिश्र को कई दिनों से मंडियों में व्यापारियों के व्दारा समर्थन मूल्य पर चना बेचे जाने की सूचना मिल रही थी। इसके लिए उन्होंने कृषि विभाग के एसडीओ आरएस राजपूत को निगरानी के लिए तैनात किया था। आज सुबह जब चिचोली का एक दस चक्का ट्रक चना लेकर आया तो श्री राजपूत ने उससे कागज आदि पूछा।लेकिन कोई कागज या किसान का नाम न बता पाने पर एसडीओ ने सीधे कलेक्टर शशांक मिश्र और एसडीएम सीएल चनाप को सूचित किया। इस पर एसडीएम और नायब तहसीलदार सविता यादव मंडी पहुंची। 

इसके पहले एसडीओ ने ट्रक से चना उतरने पर रोक लगा दी थी। प्रशासन की टीम ने जब कागज मांगे तो थोडी देर बाद तथाकथित किसान धर्मेन्द्र पटेल और संतोष यादव आदि आए। इन्होंने चना तीन किसानों का होना बताया। हांलाकि एक से बारदाने और एक सी पेकिंग होने से स्पष्ट था कि यह 22 सौ रुपये क्विंटल का महाराष्ट्र का चना है जो 44 सौ रुपये क्विंवटल के समर्थन मूल्य में बिकने के लिए आया है। एसडीएम ने चना और ट्रक को जब्त कर जांच के निर्देश दिए। 

उधर जामठी की सहकारी समिति के एरिए में 94 क्विंटल चना पांच ढेर में अवैध रूप से पड़ा मिला। इसकी भी प्रशासन ने जांच कर जब्ती की कार्रवाई की। मौके पर पहुंचे मंडी सचिव एसके भालेकर भी नहीं बता कि बिना गेटपास के ट्रक अंदर कैसे आया। सीसीटीवी में कौन ट्रक चला रहा था। जामठी समिति के यहां लावारिस चना किसने और कब रखा। 

बहरहाल किसानों की कमाई का करोड़ों रूपए व्यापारियों व्दारा डकारने के बाद जिला कलेक्टर की कार्रवाई से उम्मीद बंधी है कि पुलिस में एफआईआर कराकर सीसीटीवी फुटेज, काल रिकार्डिंग के आधार पर असली दोषियों को जेल में डालेंगे।


"To get the latest news update download tha app"