Breaking News
प्रशासन बता रहा 'डेंगू' छुआछूत की बीमारी | किसकी होगी पूरी मुराद, आज महाकाल के दर पर सिंधिया-शिवराज | सड़क पर सियासत : कमलनाथ बोले- बुधनी से अच्छी छिंदवाड़ा की सड़कें, शिवराज जी एक बार जरुर आए | सुल्तानगढ़ वॉटरफॉल हादसा : मौत से संघर्ष के बाद भी कैसे हार गई 9 जिंदगियां, देखें वीडियो | शर्मसार : सागर में नाबालिग से गैंगरेप, बीते दिनों ही मिला था सबसे सुरक्षित शहर का तमगा | कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने लिया विस चुनाव में भाजपा को उखाड़ फेंकने का संकल्प | केंद्रीय मंत्री की बहन को एसिड अटैक और मारने की धमकी | खाना खाने के बाद बिगड़ी तबियत, दो सगी बहनों की मौत, मां की हालत गंभीर | पूर्व राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा की जन्मशताब्दी मनाएगी सरकार : शिवराज | अस्पताल के बच्चा वार्ड में लगी आग, मची अफरा-तफरी, 35 बच्चे थे भर्ती |

तेंदुए की मौत का खुलासा, तांत्रिक क्रिया के लिए किया था करंट लगाकर शिकार

बैतूल/मुलताई।। रवि पाटिल/हेमंत पवार ।।

तहसील क्षेत्र के मासोद के गांव रामनगर में अक्षय तृतीया की रात्री तेंदूए के कटे पंजो की पूजा कर तांत्रिक क्रिया से धन वर्षा की सनसनी खेज वारदात सामने आई थी। उक्त मामले में वन विभाग व पुलिस द्वारा दबिश देकर दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया था। गिरफ्तार किए गए दोनों शिकारियों को वन विभाग द्वारा चार दिन की पीआर पर लिया था। 

दक्षिण मंडल के डीएफओ के दक्षिण वन मंडल का प्रभार संभालते ही एक तेंदूए का शिकार होना आश्चर्य जनक है। तेंदूए शिकार मामले में मजेदार तथ्य यह रहा कि दक्षिण वन मंडल के वनकर्मी मामले से अनजान रहे जबकि शिकारियों और शिकार की जानकारी छिंदवाड़ा वन मंडल के अमरवाड़ा उपवनमंडलाधिकारी द्वारा दी गई। यदि छिंदवाड़ा वनमंडल के अधिकारी मामले में रूचि नही लेते तो तेंदूआ शिकार की घटना अतीत का पन्ना बनकर रह जाती। चार दिन की पुलिस रिमांड पर लिए गए धनुष तथा गोमा को चार दिन की रिमांड पर लिए जाने के बाद जो खुलासा हुआ वह काफी चौका देने वाला है।

 पुछताछ में धनुष ने बताया कि होली के चार दिन पूर्व बिल्सू पिता भैयालाल आदिवासी के साथ मिलकर दाबकाबीट के अड़ामपाड़ी के जंगल में करंट फैलाया था, जिसकी चपेट में आने से तेंदूए की मौत हो गई थी। तेंदूए की मौत के बाद उसे बिल्सू के खेत में ही दफना दिया गया था। धनवर्षा के लालच में भगत के कहे अनुसार घटना के दो दिन बाद दफनाए गए तेंदूए का शव निकालकर उसके दो पंजे काटकर तांत्रिक क्रिया करना सुनिश्चित किया था। योजना के अनुसार धनुष, गोमा, बिल्सू, अमरलाल, पोलसिंग तथा ओमकार द्वारा अक्षय तृतीया के अवसर पर धनवर्षा कराने के उद्देश्य से प्रभात पट्टन के ग्राम रामनगर में तांत्रिक क्रिया कर पूजा की जा रही थी कि वन विभाग व पुलिस की टीम ने दबिश दी थी। 

दबिश में धनुष तथा गोमा पकड़ा गए थे जबकि शेष अन्य आरोपी फरार होने में कामियाब हो गए थे। शनिवार को बिल्सू पिता भैय्यालाल आदिवासी को गिरफ्तार किया गया तथा उसकी निशान देही पर दफनाए गए तेंदूए की अस्थियां बरामद की गई। डीएफओ संजीव झा का कहना है कि शेष फरार आरोपियों को भी शीघ्र गिरफ्तारी की जाएगी।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...