Breaking News
MP: चुनाव से पहले किसानों को खुश करेगी सरकार, 28 को खाते में आएगा बोनस | एट्रोसिटी एक्ट : सीएम की मंशा पर महिला अधिकारी ने उठाये सवाल, देखिये वीडियो | भाजपा कार्यकर्ता महाकुंभ कल, पोस्टर-कटआउट से नदारद उमा और गौर, मचा बवाल | खुशखबरी : मध्यप्रदेश के युवाओं के लिए सुनहरा मौका, अक्टूबर मे निकलेगी सेना भर्ती रैली | चुनाव से पहले शिवराज कैबिनेट की बैठक में कई बड़े फैसले, इन प्रस्तावों को मिली मंजूरी | शिवराज के बाद अब केंद्रीय मंत्री के बदले स्वर, एट्रोसिटी एक्ट को लेकर दिया ये बयान | पीड़िता का आरोप- एसपी ने मांगा रेप का वीडियो, तब होगी सुनवाई | इंजीनियर पर भड़के मंत्रीजी, सस्पेंड करने की दी धमकी | दो पक्षों में विवाद, पथराव-आगजनी, 2 पुलिसकर्मी समेत 8 घायल, धारा 144 लागू | भाजपा में बगावत शुरु, पदमा शुक्ला के बाद कटनी से दो दर्जन और इस्तीफे |

नही खत्म होगा आरक्षण, चाहे एक हजार साल बीत जाए : उमा भारती

बैतूल।

देशभर में आरक्षण को लेकर बहस छिड़ी हुई है।हर कोई आरक्षण को लेकर चर्चा कर रहा है।हर वर्ग द्वारा आरक्षण की मांग की जा रही है। ऐसे में मोदी सरकार की केन्द्रीय मंत्री उमा भारती ने भी आरक्षण को लेकर बड़ा बयान दिया है।उन्होंने आरक्षण को लेकर वकालत की और कहा कि आरक्षण खत्म करने की बात न तो प्रधानमंत्री ने कही और न ही सर्वोच्च न्यायालय ने फिर देश में आरक्षण बंद करने की बात आई कहां से। जब तक हिंदुस्तान का हर नागरिक समान शिक्षा, स्वास्थ्य आर्थिक आधार पर सक्षम नही हो जाता, आरक्षण जारी रहेगा, चाहे इसके लिए हज़ार साल भी लग जाएं।

दरअसल, गुरुवार को केंद्रीय पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री उमा भारती ने केसर बाग में कर सलाहकार व पूर्व नगर सुधार न्यास अध्यक्ष राजीव खंडेलवाल की पुस्तक के विमोचन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि पर बैतूल पहुंची थी। जहां उन्होंने अपने भाषण में एक बार फिर आरक्षण का मुद्दा उठाया और कहा कि आरक्षण को खत्म करने को लेकर ना तो कभी प्रधानमंत्री मोदी ने कहा और ना ही सर्वोच्च न्यायालय द्वारा कहा गया है। अब समझ नही आता ये बात आई तो आई कहां से।

उमा भरती यही नही रुकी और उन्होंने आगे कहा कि हमारे देश में समाज विषमताओं से भरा है। जहां समाज में विषमता रहती है वहां विशेष अवसर प्रदान करने पड़ते हैं।समाज में पूरी तरह से समानता आते तक आरक्षण जारी रहेगा। इसके लिए भले ही हजार साल लग जाएं, तब तक आरक्षण लागू रहेगा। यह देश चूंकि विषमतायुक्त समाज वाला देश हैं, इसलिए यहां समानता के साथ नहीं रह सकते। ऐसे में हमें पिछड़े, शोषित वर्ग के लोगों को विशेष अवसर देने होंगे। 


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...