प्रशासन और खनिज विभाग की बड़ी कार्रवाई, लाखों रुपए की 250 ट्रक अवैध रेत जब्त

भिण्ड| जिला प्रशासन और खनिज विभाग की संयुक्त कार्रवाई में लगभग दो सौ पचास ट्रक अवैध रेत का भंडारण जप्त किया गया है। भिंड एसडीएम संतोष तिवारी के द्वारा खनिज विभाग के साथ मिलकर इस कार्रवाई को अंजाम दिया गया है। जब्त की गई रेत की बाजारू कीमत लगभग 75 लाख रुपये बताई गई है। दरअसल प्रशासन को सूचना मिली थी कि परा डूमना और अतरसुमा रेत खदानों के पास अवैध रूप से रेत का भंडारण किया गया है। सूचना के बाद कलेक्टर के आदेश पर भिंड एसडीएम संतोष तिवारी ने कार्यवाही करते हुए रेत के अवैध भंडारण को जप्त कर लिया है। 

दरअसल, बारिश का सीजन शुरू होते ही 21 मई से रेत के उत्खनन पर कलेक्टर द्वारा पाबंदी लगा दी गई थी। लेकिन पाबंदी के बावजूद लोगों द्वारा बिना अनुमति के ही रेत का अवैध भंडारण कर लिया गया था और यहां से ट्रॉलियों और ट्रकों में रेत भरकर बेचा जा रहा था। इसकी सूचना प्रशासन को लगते ही प्रशासन ने कार्यवाही करते हुए रेत के इन अवैध भंडारण को जप्त कर लिया है। आपको बता दें कि बारिश के मौसम में भंडारण की अनुमति की आड़ में जमकर रेत का अवैध उत्खनन और परिवहन होता है। इसी के चलते प्रशासन ने जिले में नौ जगह पर जांच नाके लगाए हैं जिसमें प्रशासनिक अधिकारियों की टीम बनाकर उन को मॉनिटर करने के लिए नाकों को सौंपा गया है। लेकिन प्रशासनिक अधिकारी कर्तव्य में लापरवाही बरत रहे हैं। इसी के चलते शनिवार को औचक निरीक्षण में एसडीएम संतोष तिवारी ने अधिकारियों को मौके पर अनुपस्थित पाए जाने पर उनके निलंबन का प्रस्ताव कलेक्टर को भेजा था और कलेक्टर आशीष गुप्ता ने त्वरित कार्रवाई करते हुए कार्य में लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों को निलंबित कर दिया था। लेकिन इसके बावजूद भी अवैध परिवहन रुकने का नाम नहीं ले रहा है। बड़ी संख्या में रेत से ओवरलोडेड ट्रक अभी भी अवैध रूप से नाकों से गुजर रहे हैं।


जिलेभर में एक अरब रुपए से अधिक का अवैध रेत भंडारित

जिले से गुजरने वाली सिंध नदी के आस-पास के गांव और उनसे मुख्य मार्ग तक आने वाली सड़कों के किनारे करीब एक अरब रुपए से अधिक का रेत विभिन्न स्थानों पर अवैध रूप से खनन माफिया के द्वारा डंप यानी कि भंडारित किया गया है आज जिला प्रशासन के द्वारा पुराडूमना और अतरसूमा में जिस प्रकार की कार्रवाई की गई है ऐसी कार्रवाई जिलेभर में होने की आवश्यकता है और खासकर सिंध नदी के आस-पास के गांव और नदी से लेकर मुख्य मार्ग तक आने वाली सड़कों के किनारे रखे हुए रेत पर। एक अनुमान के मुताबिक हजारों  ट्रक रेत अवैध रूप से जिले में भंडारित किया गया है वह भी नियम विरुद्ध यहां हम बता दें कि यह रेत कहीं ना कहीं संबंधित थाना प्रभारियों की शह पर पुलिस अधिकारियों की मिलीभगत से डंप किया गया है सूत्रों की माने तो इन रेत के अवैध डंपों में तमाम सफेदपोशों और खाकी वालों की हिस्सेदारी है आज जो कार्यवाही हुई है वह तो दूरस्थ गांवों में हुई है जानकारों की माने तो भिंड के आसपास के कई गांव में इस तरह के अवैध रेत के डंपर देखने को मिल जाएंगे अपुष्ट सूत्रों की बात पर भरोसा करें तो जिले के एक बड़े खनिज अधिकारी के हिस्सेदारी में भी जिला मुख्यालय के समीप एक गांव कीरतपुरा में अवैध रेत डंप किया हुआ है लेकिन सफेदपोशों की हिस्सेदारी और संरक्षण के चलते इसे जप्त करने की हिमाकत शायद किसी में नहीं।