पुलिस अधीक्षक भिंड ने विभिन्न समस्याओं को अवगत कराने के लिए लिखे पत्र

भिंड - मनीष ऋषीश्वर

 पुलिस अधीक्षक रुडोल्फ  अल्वारेस आर जे ने जिला के मुख्य अधिकारियों में  कलेक्टर,नगरपालिका अधिकारी,बिजली प्रन्धक को  पत्र लिखकर समस्याओं के बारे में अवगत कराया है,जिले में हादसों के कारण जा रही जानों के परिपेक्ष्य में उन्होंने अपने लेटर पेड पर जिले की सड़कों पर डिवाइडर न होने के लिए नगर पालिका अधिकारी को पत्र लिखा है,जबकि वहीँ जिले में रोड के किनारे दूधिया रौशनी की व्यवस्था के लिए बिजली प्रबंधक को पत्र लिखा है तथा जिलेभर के थानों के लिए अग्निशामक वाहनों की मांग के लिए कलेक्टर को पत्र लिखकर अवगत कराया है।

आगजनी की अधिक घटनाएं होने पर कलेक्टर से मांगी प्रत्येक थाने पर दमकल

जिले भर में 2018 में वार्षिक घटनाओं में आगजनी की 11  घटनाएँ सामने आईं है,जिसकी वजह से पुलिस अधीक्षक ने प्रत्येक थाने पर अग्निशामक वाहन की मांग की है एवं सबडिवीजन स्तर पर फॉम फायर बिग्रेड अनिवार्य रूप से दी जाय इसके लिए लिखित पत्र में जिला दंडाधिकारी आशीष कुमार गुप्ता से मांग की है,ताकि आगजनी की घटनाओं पर जल्द काबू पाया जा सके और जान माल की हानि को बचाया जा सके क्यों कि प्रायः देखा गया है कि दमकल की कमी के कारण समय पर दमकल उपलब्ध नहीं होपाती है और एक ही समय पर अधिक घटनाएँ घटित होने पर जान माल का नुक्सान बढ़ जाता है।


11 केवी की जर्जर लाइन को सुधारने के लिए लिखा पत्र

पुलिस अधीक्षक ने भिंड शहर के प्रमुख मार्गों से गुजरी 11 केवी की विधुत लाइन की जर्जर हालत को देखते हुए चिंता जाहिर की है एवं उन्होंने कहा है कि इन लाइनो को जल्द बदला जाए नहीं तो गंभीर हादसा घटित होने पर जिले का लॉ आर्डर बिगड़ सकता है,और जो बड़ी लाइन नीचे हो गयी हैं उनको ऊँचा करवाया जाए जिससे बड़े और भारी वाहन उनसे बिना टकराये निर्बाधित रूप से निकल सकें,जिसके लिए पत्र व्यवहार कर जिले के आईपीएस अधिकारी अल्वारेस ने बिजली विभाग के प्रबंधक राजीव गुप्ता को अवगत कराया है।


नगरपालिका अधिकारी से पुलिस अधीक्षक ने मांगी शहर में दूधिया रौशनी और दुरुस्त डिवाइडर

नेशनल हाइवे क्रमांक 92 वायपास शहरी क्षेत्र से अधिक आवागमन होता है,लेकिन वहां डिवाइडर और दूधिया रौशनी की व्यवस्था न होने पर रात्रि में हमेशा दुर्घटना होने का अंदेशा रहता है और पिछले रिकॉर्ड की बात करें तो 70 प्रतिशत घटनाएँ रात्रि में हुईं हैं,सुप्रीम कोर्ट की गाइड लाइन के अनुसार लोगों की सुरक्षा के लिये यह प्रभावी कदम उठाने के लिए  उन्होंने पत्र के माध्यम से आर.टी.ओ बैरियर से लेकर दबोहा मोड़ तक डिवाइडर एवं प्रयाप्त विधुत प्रकाश की व्यवस्था के लिए मांग की है जिससे दुर्घटनाओं के ग्राफ में कमी आ सके।