अधिकारियों से साठगांठ कर फर्जी किसानों ने बेची फसल, असली पैसे के लिए भटक रहे: डॉ गोविन्द सिंह

भिंड - मनीष ऋषीश्वर|  लहार विधायक गोविन्द सिंह ने पत्रकार वार्ता में बताया कि लहार विधानसभा में ऐसे कई लोग हैं जिनपर एक खेत भी नहीं है लेकिन उन्होंने अधिकारियों से सांठगाँठ कर पहले पंजीयन कराया और फिर फसल भी बिचौलिया बनकर खरीदी और किसान बनकर बेच डाली,मामले की भनक स्थानीय विधायक को  तब लगी जब कई किसानों को उन्होंने फसल बेचने के बाद रसीद लिए पैसा न मिलने पर इधर उधर भटकते देखा ,इतना ही नहीं उन भटकते किसानो ने ही बताया कि इसबार कई फर्जी किसानों ने रजिस्ट्रेशन कराया है और फसल बेचकर अच्छा ख़ासा पैसा कमाया है और हमने फसल बेचीं थी जिसकी रसीद भी है लेकिन हमारे खातों में अबतक पैसा नहीं पहुंचा हैं,मामले को संज्ञान में लेने के बाद श्री सिंह ने कलेक्टर महोदय से शिकायत की और उन फर्जी लोगों पर अला अधिकारियों से कार्यवाही के दौरान हजारों क्विंटल सरसों पकड़वाई लेकिन मामला सिफर रहा और अब तक कार्यवाही के नाम पर कोई ठोस कार्यवाही नहीं की गयी है।


 रेत परिवहन में गयी ढाई सैकड़ा जाने लेकिन फिर भी नहीं रुकता रेत का अवैध उत्खनन

डॉ गोविन्द सिंह ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए बताया कि रेत उत्खनन का अवैध कारोबार खूब जोरों से पनप रहा है ,कोई एक्सीडेंट में कुचलकर मरा तो कोई खदान में दबकर मरगया तो कोई रेतमाफिया की बन्दूक की गोली का निशाना बन गया,इस प्रकार जिलेभर में कई लोगों के परिजन स्वर्ग सिधार चुके हैं लेकिन भिंड प्रशासन फिर भी मौन है,उन्होंने आगे बातचीत करते हुए  कहा कि खनिज विभाग के अधिकारियों की मिली भगत के चलते यह सब पनप रहा है,और तभी उन्होंने उदाहरण देते हुए बताया कि दो दिन पूर्व कुछ पोकलेन मशीन और ट्रक पकडे गए थे ,जिसमे कार्यवाही के दौरान खनिज अधिकारी एवं सर्वेयर साथ थे लेकिन किसी राजनैतिक मठाधीश के दबाव में जिले जे वरिष्ठ अधिकारी ने फ़ोन पर धमकी सुनने के बाद छोड़ दिए,जिसमें कही न कही कार्यवाही की असमर्थता जाहिर होती है और पता चलता है कि रसूखदारों के ऊपर कोई कार्यवाही नहीं होती वहां तो केवल दिखावा है,जब इस पूरे वाकये का  जवाब माँगा गया तो अधिकारी बगलें झांकते नजर आये और जिम्मेदारी भरे उद्बोधन से कतरा गए।


निवर्तमान कलेक्टर ने किये थे राजसात ट्रक ,और वर्तमान कलेक्टर और खनिज अधिकारी ने आदेश बनाकर कर छोड़े

विधायक महोदय ने आगे पत्रकार वार्ता जारी रखते हुए बताया कि खनिज अधिकारी ने वर्तमान कलेक्टर के साथ गठजोड़ करके राजसात ट्रक छोड़ दिये जो कि पूर्व कलेक्टर इलैया राजा टी ने खनिज सम्पदा लूटने से बचाने के एवज में ट्रकों को राजसात किया था जिनको बिना किसी वाजिब वजह के छोड़ दिया गया है जोकि वर्तमान प्रशासनिक प्रकिरिया पर सवालिया निशान खड़े करता है,उन्होंने आगे कहा कि हालांकि इसपर वर्तमान कलेक्टर ने संज्ञान लेते हुए जांच की खानापूर्ति करदी है जबकि ऐसे कारनामे के बाद निलंबन की कार्यवाही बनती है ।