बच्चों को भीख मांगने की ट्रेनिंग देता था गिरोह, अच्छी एक्टिंग न करने वालों को मिलती थी सजा

भोपाल। राजधानी में मंगलवार को महिला बालविकास और पुलिस की टीम ने संयुक्त आपरेशन कर भीख मंगवाने वाले गिरोह का पर्दा फाश किया था। जिसके तहत जहांगीराबाद और अशोका गार्डन में छापेमारी कर 44 बच्चों को रेस्क्यु कर मुक्त कराया गया था। उन्हें 16 महिलाएं और सात पुरूषों के माध्यम से भीख मंगवाने के लिए हैदराबाद और कानपुर से भोपाल लाया गया था। पूछताछ में महिलाओं और आरोपी पुरूषों ने पुलिस को बताया कि रमजान में मुस्लिम बड़ी तादाद में जकात निकालते हैं। उन्हें प्रति बच्चा दो-ढाई हजार रूपए हर दिन कमाकर देता था। भीख मांगवाने की ट्रेनिंग बच्चों को पिछले दो महीने से दी जा रही थी। सभी बच्चे माजूर (अक्षम )नहीं है। उन्हें ऐसा दिखने के लिए एक्टिंग सिखाई जाती थी। वहीं बच्चों ने पुलिस को बताया कि जो एक्टिंग सही नहीं करता था, उसे भूखा रखा जाता तथा मारा पीटा जाता था। कई बच्चों के जिस्म पर पुरानी चोटों के निशान मिले हैं। 

जानकारी के अनुसार गिरफ्तार महिलाएं और पुरूष लगातार दावा कर रहे हैं कि बच्चे उनके स्वयं के हैं। पुलिस अब बच्चों और गिरफ्तार आरोपियों का डीएनए टेस्ट कराने की तैयारी में है। आरोपियों के परिजनों ने मोबाइल पर उनके आधार कार्ड सेंड कर दिए हैं। जिसकी क्राइम ब्रांच जांच कर रही है। पुलिस को संदेह है कि गिरोह प्रदेश के अन्य हिस्सों में भी इसी प्रकार बच्चों से भीख मंगवाने का काम कर रहा है। संभागायुक्त कल्पना श्रीवास्तव ने बताया कि पिछले तीन महीने से शहर में भीख मांगने वाले बच्चों की संख्या बढऩे की शिकायतें मिल रही थी। इसके बाद जांच में मिले इनपुट के आधार पर मंगलवार सुबह यह कार्रवाई की गई। इस संबंध में कानपुर और हैदराबाद पुलिस को सूचना भेजी है। ताकि संबंधितों के बारे में सही जानकारी मिल सके। 


- मुंबई की तर्ज पर भोपाल में फलफूल रहा कारोबार

गौरतलब है कि शहर में इन दिनों मुंबई की तर्ज पर भीख मंगवाने वाले कई छोटे बड़े गिरोह संचालित हैं। पुराने शहर के काजीकेंप पर रात भर मासूम बच्चों के साथ में महिलाएं भीख मांगने का काम करती हैं। भोपाल टाकीज चौराहा और बोर्ड आफिस चौराहा पर हाथ में इलाज के पर्चे लिए मासूम बच्चों के साथ में पारर्दी गिरोह भीख मांगने का काम करते हैं। भोपाल मुख्य और हबीबगंज पर स्टेशन पर बच्चों की गैंग भीख मांगती है। यह सभी लोग स्लोचन पीने के आदी हैं तथा चोरी की वारदातों में भी शामिल रहते हैं। सूत्रों का दावा है कि भिखारी गैंग ने अपने-अपने हिसाब से क्षेत्रों का बंटवारा भी कर रखा है। वह एक दूसरे के इलाकों में भीख नहीं मांगते।


- रिश्तेदारों और पड़ोसियों के बच्चों से मंगवाते थे भीख

चाइल्ड लाइन प्रमुख अर्चना सहाय के अनुसार जहांगीराबाद में रह रहा गिरोह लंबे समय से भोपाल में निवासरत है। उन्होंने पूछताछ में बताया कि रमजान के दिनों में अच्छा दान मिलता है। इकसे लिए वह अपने स्वयं के बच्चों सहित रिश्तेदारों और परिचित बच्चों को भी हैदराबाद से भोपाल बुला लिया करते थे। पूछताछ में उन्होंने फिलहाल किसी नेशल गिरोह का सदस्य होने की बात से इनकार किया है। उनसे इस संबंध में जानकारी जुटाई जा रही है। वहीं पुलिस ने अब तक इस माममले में किसी भी प्रकार का प्रकरण दर्ज नहीं किया है।

"To get the latest news update download the app"