अब बादाम और पतंजलि का च्यवनप्राश देने शिवराज के घर पहुंची कांग्रेस

भोपाल| मध्य प्रदेश में कर्जमाफी के मुद्दे पर भाजपा और कांग्रेस आमने सामने है| एक तरफ जहां पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपनी हर चुनाव सभा में कांग्रेस को किसानों को धोखा देने वाली सरकार बताते हुए कर्जमाफी नहीं होने का दावा कर रहे हैं, तो कांग्रेस इसे झूठ बताते हुए सबूत दे रही है| मंगलवार को कांग्रेस नेताओं ने शिवराज सिंह चौहान के आवास पर पहुंचकर कर्जमाफी के दस्तावेज सबूत के तौर पर सौंपे थे। अब दूसरे दिन कांग्रेसियों ने शिवराज के लिए बादाम, च्यवनप्राश और आई ड्रॉप दिया है। कांग्रेस नेताओं का कहना था कि शिवराज को दृष्टि दोष और याददाश्त की कमी हो गई है। इसलिए हमने उनके निवास जाकर बादाम, आंखों की रोशनी बढ़ाने वाला आई ड्रॉप और पतंजलि का च्यवनप्राश दिया है। इसके निरंतर उपयोग करने की सलाह भी दी है। इससे उनका रोज झूठ बोलना बंद हो जाएगा। 

दरअसल, कर्जमाफी के मुद्दे पर भाजपा के आरोपों के बाद कांग्रेस भी आक्रामक हो गई है और हर आरोप का जवाब दिया जा रहा है| इसी के चलते शिवराज के आरोपों का जवाब देने खुद मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी| अब बुधवार कांग्रेस नेताओं ने पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के लिए बादाम, च्यवनप्राश और आई ड्रॉप दिया| प्रदेश कांग्रेस मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने कहा कि उनके प्रतिनिधिमंडल को शिवराज सिंह के बंगले के मुख्य द्वार पर सुरक्षा कर्मचारियों ने रोक लिया था। उन्होंने बंगले पर तैनात कर्मचारियों को सामान सौंप दिया है। सलूजा ने कहा- सत्ता जाने का गम और बौखलाहट अभी तक शिवराज सिंह में दिख रही है। वे सच को स्वीकार नहीं पा रहे हैं। कर्जमाफी के प्रमाण देने के बाद भी झूठे आरोप लगा रहे हैं। इधर, भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने एक ट्वीट के जरिए कहा कि कांग्रेस नेताओं ने इन वस्तुओं का सेवन अपने राष्ट्रीय नेतृत्व को कराया होता, तो आज उन्हें ये दुर्दिन नहीं देखने पड़ते।

बता दें कि मंगलवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी के नेतृत्व में कांग्रेस का एक प्रतिनिधि मंडल ने शिवराज सिंह चौहान के आवास पर पहुंचकर कर्जमाफी के दस्तावेज सबूत के तौर पर सौंपे थे। कागजात इतने ज्यादा थे कि इन्हें गाड़ी में भरकर ले जाया गया था। कांग्रेस नेताओं का दावा है कि पूर्व मुख्यमंत्री को जो दस्तावेज सौंपे गए, उनमें किसानों के नाम की सूची, उनके मोबाइल नंबर, कर्जमाफी के सर्टिफिकेट, किस बैंक से लोन लिया गया, यह सब जानकारी दी गई थी। वहीं शिवराज ने इन सबूतों पर सवाल उठाते हुए कहा था कि यह विभाग की सूचियां हैं, कर्ज तो बैंक माफ़ करेगा| 

"To get the latest news update download the app"