Breaking News
खाना खाने के बाद बिगड़ी तबियत, दो सगी बहनों की मौत, मां की हालत गंभीर | पूर्व राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा की जन्मशताब्दी मनाएगी सरकार : शिवराज | अस्पताल के बच्चा वार्ड में लगी आग, मची अफरा-तफरी, 35 बच्चे थे भर्ती | खुशखबरी : मंत्री ने किसानों की मांग की पूरी, मोहनी सागर डेम से हरसी के लिए छुड़वाया पानी | पदोन्नति में आरक्षण : अब 22 अगस्त को होगी अगली सुनवाई, सपाक्स रखेगा अपना पक्ष | MP : आकाशीय बिजली का कहर, मवेशी चराने गए 6 लोगों की मौत, 12 घायल | गंगा की गोद में समाए 'अटल', 'बेटी नमिता ने ऊं' के उच्चारण के साथ हरकी पैड़ी में विसर्जित की अस्थियां | 'मजनू' के सिर से उतारा इश्‍क का भूत, लड़की ने चप्पलों से पीटा, भीड़ ने काटे बाल | महाकाल मंदिर के बाहर खून-खराबा, युवक ने दंपत्ति पर किया चाकू से हमला, मचा हड़कंप | BSP राष्ट्रीय महासचिव का गठबंधन से इंकार, कहा- प्रदेश की 230 सीटों पर लडेंगें चुनाव |

राष्ट्र संत भय्यूजी महाराज ने खुद को गोली मारकर की ख़ुदकुशी

इंदौर|हमेशा सुर्ख़ियों में रहने वाले हाईप्रोफाइल संत भय्यू महाराज द्वारा खुद को गोली मारकर आत्महत्या करने का मामला सामने आया है| इस घटना से हड़कंप मच गया है| उन्हें बॉम्बे अस्पताल में भर्ती कराया गया, बताया जा रहा है कि अस्पताल लाने से पहले ही उनकी मौत हो गई थी| पुलिस की एफएसएल टीम मौके के लिए रवाना हो गई है। बड़ी संख्या में उनके अनुयायी बॉम्बे हॉस्पिटल पहुंच गए हैं। कभी मॉडलिंग करने वाले भय्यू जी महाराज के देश भर में अनगिनत फॉलोवर हैं, यह घटना सभी को हतप्रभ करने वाली है| 

इंदौर के सिल्वर स्प्रिंग स्थित घर पर उन्होंने दाहिनी कनपटी पर गोली मारी है, पुलिस ने इसकी पुष्टि की है| बताया जा रहा है कुछ दिनों से वो डिप्रेशन में थे, इसके पीछे पारिवारिक कलह बताई जा रही है| 

बता दें कि मध्य प्रदेश सरकार ने हाल ही में उन्हें राज्यमंत्री का दर्जा दिया था|  उनकी पत्नी माधवी का दो साल पहले निधन हो चुका है। 30 अप्रैल 2017 को शिवपुरी की डॉ. आयुषी से उन्होंने दूसरी शादी की थी| साल भर पहले ही दूसरी शादी के बाद इस खबर से पूरा देश आश्चर्य में पड़ गया है| 1968 को जन्में भय्यू महाराज का असली नाम उदयसिंह देखमुख है। वे शुजालपुर के जमींदार परिवार से ताल्लुक रखते है। उनका कई हाईप्रोफाइल लोगों से संपर्क रहा है| वे चर्चा में तब आए जब अन्ना हजारे के अनशन को खत्म करवाने के लिए तत्कालीन केंद्र सरकार ने अपना दूत बनाकर भेजा था। बाद में अन्ना ने उनके हाथ से जूस पीकर अनशन तोड़ा था। पीएम बनने के पहले गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में मोदी सद्भावना उपवास पर बैठे थे। तब उपवास खुलवाने के लिए उन्होंने भय्यू महाराज आमंत्रित किया था।

राजनीति से बॉलीवुड तक थे भक्त 

राजनीति, बॉलीवुड हो या बिसनेस की दुनिया की दिग्गज हस्तियां, सभी जगह भय्यू महाराज के अनुयायी थे| अपने ग्लैमर अंदाज के कारण उनकी एक अलग पहचान थी| शान्ति का सन्देश देने वाले एक आध्यात्मिक संत का इस तरह का कदम उठाना देश भर को आश्चर्य में डाल रहा है| उनके आश्रम में आने वाले पहले वीआईपी महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री विलासराव देशमुख थे। उनके बाद देश के कई बड़े नेता, अभिनेता, गायक और उद्योगपति उनके आश्रम आ चुके हैं। इनमें पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल, पीएम नरेंद्र मोदी, शिवसेना के उद्धव ठाकरे और मनसे के राज ठाकरे, लता मंगेशकर, आशा भोंसले, अनुराधा पौडवाल, फिल्म एक्टर मिलिंद गुणाजी भी शामिल हैं। वहीं मध्य प्रदेश सरकार के कई मंत्री विधायक महाराज को मानते थे| 

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...