Breaking News
MP: चुनाव से पहले किसानों को खुश करेगी सरकार, 28 को खाते में आएगा बोनस | एट्रोसिटी एक्ट : सीएम की मंशा पर महिला अधिकारी ने उठाये सवाल, देखिये वीडियो | भाजपा कार्यकर्ता महाकुंभ कल, पोस्टर-कटआउट से नदारद उमा और गौर, मचा बवाल | खुशखबरी : मध्यप्रदेश के युवाओं के लिए सुनहरा मौका, अक्टूबर मे निकलेगी सेना भर्ती रैली | चुनाव से पहले शिवराज कैबिनेट की बैठक में कई बड़े फैसले, इन प्रस्तावों को मिली मंजूरी | शिवराज के बाद अब केंद्रीय मंत्री के बदले स्वर, एट्रोसिटी एक्ट को लेकर दिया ये बयान | पीड़िता का आरोप- एसपी ने मांगा रेप का वीडियो, तब होगी सुनवाई | इंजीनियर पर भड़के मंत्रीजी, सस्पेंड करने की दी धमकी | दो पक्षों में विवाद, पथराव-आगजनी, 2 पुलिसकर्मी समेत 8 घायल, धारा 144 लागू | भाजपा में बगावत शुरु, पदमा शुक्ला के बाद कटनी से दो दर्जन और इस्तीफे |

प्रदेश में 19 हज़ार स्कूलों को बंद करने की तैयारी में शिवराज सरकार 

भोपाल| शिक्षा के मामले में फिसड्डी मप्र सरकार अब गुणवत्ता सुधारने के नाम पर नया प्रयोग करने जा रही है, जिसे अमल में लाने के लिए प्रदेश के 19 हजार स्कूलों को बंद कर दिया जाएगा| इसके लिए सरकार एक स्कूल-एक परिसर की अवधारणा पर काम करने जा रही है। करीब 35 हज़ार सरकारी स्कूलों को मर्ज किया जाएगा, जिसके बाद 15961 स्कूल रह जाएंगे| पहली से लेकर 12वीं तक की कक्षाएं एक ही स्कूल भवन में लगेंगी। जहां शिक्षा की सभी सुविधाएं, लाइब्रेरी, लैब एवं विषयवार शिक्षकों की उपलब्धता रहेगी। हालांकि सरकार का दावा है कि कोई स्कूल बंद नहीं होगा, बल्कि स्कूलों का विलय होगा। 

सरकार की तरफ से जारी आदेश में कहा 1 अक्टूबर तक शिफ्टिंग के लिए कहा गया है| योजना लागू होने के बाद एक परिसर में संचालित स्कूलों का समय भी एक साथ होगा। स्कूल में स्टाफ रूम, बैंक अकाउंट, डाईज कोड भी एक ही हो जाएगा। प्राचार्य सुविधा के अनुसार शिक्षकों को कक्षाओं में पढ़ाने के लिए भेज सकेंगे। इससे शिक्षकों की कमी भी दूर हो सकेंगी। जो स्कूल शिफ्ट किए जा रहे हैं उनके छात्रों को आने-जाने के लिए बस या ऑटो उपलब्ध कराए जाएंगे, स्कूल शिक्षा विभाग ने सभी ज़िलों के कलेक्टर्स को इस सम्बन्ध में निर्देश दे दिए हैं|  यह प्रक्रिया आगामी एक अक्टूबर तक पूरी कर ली जायेगी| इन स्कूलों में मौजूदा शिक्षकों के तबादले नहीं होंगे। बल्कि उन्हें शिक्षित कर दक्ष बनाया जाएगा।


भारत सरकार की एकीकृत नीति के साथ किया बदलाव

राज्य सरकार स्कूल शिक्षा के ढांचे में बदलाव केंद्र की मोदी सरकार की एकीकृत शिक्षा योजना के तहत कर रही है। जिसके तहत 'सबको शिक्षा-अच्छी शिक्षाÓ दी जाना है। इसमें नर्सरी से 12वीं तक लागू सर्व-शिक्षा अभियान, राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान और शिक्षक शिक्षा शामिल होगी। इसका उद्देश्य शिक्षा की गुणवत्ता को बढ़ाना, विद्यार्थियों की शिक्षा-अर्जन की क्षमता में वृद्धि करना, स्कूली शिक्षा में सामाजिक असमानता को दूर करना, स्कूली शिक्षा व्यवस्था में न्यूनतम मानक निर्धारित करना, शिक्षा के साथ व्यवसायीकरण परीक्षण को बढ़ावा देना शामिल है। खास बात यह है कि मोदी सरकार की एकीकृत शिक्षा योजना तत्कालीन यूपीए सरकार ने तैयार की थी, लेकिन तब मप्र ने इस योजना को लागू करने से साफ इंकार कर दिया था। 


इस साल बनेंगे 710 स्कूल भवन

चालू साल में459 करोड़ की लागत से 582 हायर सेकेण्डरी और 128 हाई स्कूलों के नवीन भवन बनेंगे। साथ ही 102 करोड़ से 2 हजार माध्यमिक और 829 हाई स्कूलों एव हायर सेकेण्डरी स्कूलों में फर्नीचर और प्रयोगशाला की व्यवस्था होगीै। हाईस्कूल और हायर सेकेण्डरी के लिये 11 हजार 700 नए पद मंजूर किए हैं। 629 हाई स्कूल और 329 हायर सेकेण्डरी स्कूलों का उन्नयन किया जा रहा है। 

 

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...