Breaking News
कांग्रेसी विधायक ने मर्यादाएं की तार-तार | विधानसभा चुनाव के लिए 'आप' ने जारी की पांचवी लिस्ट, यह होंगे प्रत्याशी | CM की PC: केरल बाढ पीड़ितों को 10 करोड़ की आर्थिक सहायता, अटल जी को लेकर भी कई ऐलान | भितरघात की चिंता: दावेदारों से भरवाए शपथ पत्र, 'टिकट नहीं मिली तो भी पार्टी हित में काम करूंगा' | राहुल गांधी का ऐलान- केरल बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए 1 महीने की सैलरी देंगे कांग्रेस के सांसद-विधायक | MP : इन दो महिला आईएएस के निशाने पर 'भ्रष्ट-लापरवाह' अधिकारी | MR.बैचलर बनकर हाईप्रोफाइल लड़कियों को निशाना बनाता था लुटेरा दूल्हा, 4 राज्यों में थी तलाश | पुलिस को पीटने वाले थाने से ससम्मान विदा, नशे में धुत लड़कियों ने हाईवे पर मचाया था उत्पात | Asian Games 2018 : आज से होगा एशियन गेम्स का रंगारंग आगाज, इतिहास रचने को तैयार भारत | दो सांसदों की चिट्ठी के बीच अटकी शिप्रा एक्सप्रेस! |

गर्मियों की छुट्टियां खत्म, 15 जून से खुलेंगी पाठशालाएं

भोपाल। प्रदेश के सभी सरकार स्कूलों में ग्रीष्मकालीन अवकाशों का सीजन खत्म होने जा रहा है। स्कूल चले हम अभियान के तहत 15 जून से स्कूलों में शिक्षण कार्य शुरू होने जा रहा है। पहले दिन स्कूलों मं प्रवेशात्सव मनाया जाएगा। जो छात्र अप्रैल में स्कूल में प्रवेश  से रह गए हैं, उन्हें अनिवार्य रूप से प्रवेश दिलवाने के लिए राज्य सरकार ने सभी जिलों के कलेक्टरों को निर्देश जारी कर दिए हैं। 

स्कूल शिक्षा विभाग ने जिला कलेक्टर्स, जिला पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारी और मुख्य नगरपालिका अधिकारियों को अभियान के सफल क्रियान्वयन के संबंध में जारी किए निर्देश में कहा है कि कक्षा एक से कक्षा 11वीं तक ऐसे छात्रों की पहचान की जाए, जिनका शालाओं में अप्रैल माह में प्रवेश नहीं हो पाया है। इसके साथ ही, सामुदायिक सहयोग से शाला से बाहर तथा विशेष आवश्यकता वाले बच्चों को शिक्षा की मुख्य धारा में जोडऩे के लिये रणनीति तैयार की जाये। प्रत्येक जिले में शिक्षा सत्र 2016-17 के नामांकन के आधार पर वर्ष 2017-18 में नामांकन में गिरावट वाली संस्थाओं की सूची के आधार पर समीक्षा की जाये। प्रदेश में कक्षा एक से 12 तक की करीब एक लाख 23 हजार सरकारी शाला है।


हर स्कूल में कराएं बाल सभा 

जारी निर्देश में कहा गया है कि 15 जून को अनिवार्य रूप से प्रत्येक सरकारी विद्यालय में शाला प्रबंधन और विकास समिति की बैठक के साथ विशेष बालसभा का आयोजन किया जाये। इन सभाओं में बच्चों की नियमित उपस्थिति, दक्षता उन्नयन और पाठ्य-पुस्तकों के वितरण के संबंध में अनिवार्य रूप से चर्चा की जाये। प्रत्येक सरकारी विद्यालय में 18 जून को महारानी लक्ष्मीबाई के बलिदान दिवस के मौके पर देश के जवानों के प्रति श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिये विशेष कार्यक्रम आयोजित किये जायें। इस दिन प्रत्येक शासकीय विद्यालय में भारतीय सेना और सीमा सुरक्षा बल के जवानों तथा सेवानिवृत्त सैन्य कर्मियों को व़िद्यालय में आमंत्रित कर उन्हें सम्मानित किया जाये।


20 जून को पूर्व छात्रों से होगा संवाद

स्कूल शिक्षा विभाग ने पूर्व छात्रों को स्कूलों में बुलाने के निर्देश भी दिए हैं। इसके तहत 20 जून को प्रत्येक शासकीय विद्यालय में उन पूर्व छात्रों को विशेष रूप से आमंत्रित किया जाये, जो समाज में सक्रिय रहकर राष्ट्र के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन कर रहे है। ऐसे व्यक्तियों और छात्रों के साथ परस्पर संवाद कायम करवाया जाये, जिससे स्कूल के छात्र प्रोत्साहित हो सकें। दिनांक 22 जून को पालक सम्मेलन का आयोजन प्रत्येक सरकारी विद्यालय में सुनिश्चित करने के लिये कहा गया है। इस सम्मेलन में विद्यार्थियों के माता-पिता को आमंत्रित किया जाये। सम्मेलन में ऐसे वॉलेंटियर्स की उपस्थिति सुनिश्चित करने के लिये कहा गया है, जो स्कूल शिक्षा विभाग के मिल बांचे कार्यक्रम, प्रणाम पाठशाला और अन्य गतिविधियों में सक्रिय रूप से जुड़कर सहयोग करते हैं।


15 दिन तक चलेंगे खेल-कूद 

15 से 30 जून तक जिले के प्रत्येक सरकारी विद्यालय में कम से कम एक कालखण्ड में खेल-कूद, साहित्य एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम के आयोजन करने के लिये कहा गया है। निर्देश में यह भी कहा गया है कि प्रत्येक सरकारी शाला भवन और छात्रावास में सफाई के लिये विशेष अभियान चलाया जाये। इनमें सामुदायिक सहभागिता भी सुनिश्चित की जाये। इसके साथ ही प्रदेश में पन्नी बीनने वाले, बेघर, अनाथ बच्चों के लिये संचालित सरकारी छात्रावासों में बच्चों का प्रवेश सुनिश्चित करने के लिये कहा गया है।


शिक्षा पोर्टल पर लगेगी शिक्षकों की हाजिरी

स्कूल शिक्षा विभाग के प्रत्येक अधिकारी-कर्मचारी की एम शिक्षा मित्र पोर्टल पर उपस्थिति दर्ज करायी जायेगी। शिक्षण सत्र 2018-19 में समग्र शिक्षा पोर्टल में नामांकन, प्रोफाइल अपडेशन का कार्य 20 जून तक पूरा किया जाएगा। विभाग की पाठ्य-पुस्तक, छात्रवृत्ति और साईकिल वितरण योजनाओं में सामग्री का शत-प्रतिशत वितरण कर स्कूल शिक्षा विभाग के पोर्टल पर उसकी प्रविष्टि की जाएगी।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...