भिंड-मुरैना में बाढ़ से बिगड़े हालात, 1500 लोगों को रेस्क्यू कर बाहर निकाला, 42 गांवों में हाईअलर्ट

भिंड़।

मध्यप्रदेश में लगातार हो रही बारिश ने जमकर तबाही मचाई हुई है। नीमच , मंदसौर, धार, उज्जैन और भिंड़ जिले में बाढ जैसे हालात बने हुए है।लोगों का जीवन बुरी तरह से अस्तव्यस्त हो चला है।  बाढ़ की वजह से अबतक 10 हजार करोड़ से ज्यादा की बर्बादी हो चुकी है। सर्वे के बाद यह आंकड़ा बढ़ने की संभावना है। चंबल में पानी बढ़ने की वजह से प्रशासन ने जिले 42 गांव में हाईअलर्ट जारी कर दिया है। साथ ही मुनादी कराकर ग्रामीणों को कभी भी गांव खाली करने के लिए सूचित कर दिया है।  पिछले दो दिनों में प्रशासन ने चंबल नदी के किनारे बसे 08 गांवों से करीब 1500 लोगों को रेस्क्यू कर बाहर निकाला जा चुका है। कई गांवों में लोग अब भी फंसे हुए हैं, जिन्हें बुधवार को सुबह से ही सेना और एनडीआरएफ की टीम मोटर बोट के जरिए सुरक्षित स्थानों पर भेजा जा रहा हैं। 

मंदसौर,नीमच, धार, बड़वानी के बाद भिंड में चंबल और सिंध नदी के भी वजह से हालात बिगड़ने लगे है। यहां ऊमरी क्षेत्र के करीब 10 से ज्यादा गांवों में बाढ़ की स्थिति बन गई है। सबसे ज्यादा भयावह स्थिति टेहनगुर में बनी हुई है और आधा गांव डूब क्षेत्र में आ गया है। गांव में एक मंजिला मकानों के ऊपर तक पानी पहुंच गया।हालांकि प्रशासन द्वारा डूब प्रभावित मकानों को खाली करा दिया गया है। बाकी फंसे लोगों को निकालने के लिए एयरलिफ्ट की तैयारी की जा रही है।बुधवार को सुबह से ही सेना और एनडीआरएफ की टीम मोटर बोट के जरिए लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेज रहे हैं। जिले के मछंड में पहुज नदी उफान पर आ जाने से लोंहचरा गांव का संपर्क टूट गया है। अटेर क्षेत्र के कछपुरा गांव के चारों ओर पानी भर जाने से उसका संपर्क कट गया है। मंगलवार की सुबह गांव के अंदर पानी घुसने के बाद ग्रामीणों ने मदद के लिए प्रशासन को सूचना दी। गांव में करीब 150 लोग फंसे हुए थे। ऐसे में प्रशासन एनडीआरएफ को यहां रेस्क्यू कर ग्रामीणों को सुरक्षित लाने की जिम्मेदारी दी। एनडीआरएफ ने शाम करीब पांच बजे तक वहां रेस्क्यू कर 84 ग्रामीणों को बोट के जरिए बाहर निकाला।

वही विपक्ष द्वारा बार बार सरकार पर सवाल उठाने के बाद कैबिनेट मंत्रियों द्वारा मोर्चा संभाल लिया गया है।मंत्री लगातार बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में दौरा कर रहे है।इसी कड़ी में प्रदेश के सहकारिता मंत्री डॉ गोविंद सिंह ने भी भिंड़ जिले के इन गांवों में पहुंचकर बाढ़ की स्थिति का जायजा लिया। मंत्री ने ग्रामीणों से गांव खाली कर सुरक्षित स्थान पर पहुंचने के लिए कहा है। वही स्थानीय सांसद संध्या राय भी नाव से नावली वृंदावन गांव पहुंची और लोगों को बाहर आने की समझाइश दी। आज  बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में जायजा लेने केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और शिवराज सिंह  चंबल इलाके भी पहुंचें है।


"To get the latest news update download the app"