गौर जो ठान लेते मनवाकर ही रहते थे, जनहित के मुद्दों से कभी समझौता नही किया: कमलनाथ

भोपाल।

 मध्यप्रदेश के पूर्व सीएम और भाजपा के वरिष्ठ नेता बाबूलाल गौर के निधन से राजनीति में शोक की लहर छा गई है। भाजपा और कांग्रेस दोनों ही दलों के नेताओं ने उनके निधन पर श्रद्धांजलि दी है।मुख्यमंत्री कमलनाथ ने उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए कहा क  पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल ग़ौर के निधन का समाचार मुझे स्तब्ध करने वाला है। आज मेने एक अच्छा मित्र , अच्छा साथी खो दिया है।उनसे मेरे सदैव क़रीबी संबंध रहे। वे एक ज़िंदादिल , बेबाक़ शैली के , सीधे साधे सरल व्यक्ति थे। उन्होंने हमेशा निर्भिकता , बेबाक़ी से अपने विचार व्यक्त किये और खुलेमन से अपना जीवन जिया।

कमलनाथ ने कहा कि  प्रदेश के विकास ख़ासकर भोपाल के विकास की उन्हें हमेशा चिंता रहती थी।जब में केंद्रीय मंत्री था , हमेशा मध्यप्रदेश की कई योजनाओं को लेकर मेरे पास आते थे और राशि स्वीकृत कराकर ले कर जाते थे।जो वे ठान लेते थे , उसे मनवाकर रहते थे। जनता के साथ उनका जीवंत संपर्क था।जनहित के मुद्दों पर कोई समझौता नहीं करते थे।स्पष्टवादिता के कारण अपने विचारों में कभी उन्होंने दलगत राजनीति नहीं आने दी , पार्टी लाइन से भी परे हटकर अपने विचार खुलेमन से रखते थे।मेरे साथ विदेश दौरे पर भी गये। मेरे प्रति सदैव उनका प्रेम , स्नेह रहा। हमारे रिश्तों , संबंधो में कभी दलीय राजनीति आड़े नहीं आयी।

नाथ ने कहा कि आज एक ज़िंदादिल , हँसता , मुस्कुराता साथी हमारे बीच से चला गया। उनकी कमी हमेशा मुझे अखरेगी। परिवार के प्रति मेरी शोक संवेदनाएँ। में ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ कि उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे और परिवार को यह दुःख सहने की शक्ति प्रदान करे।


"To get the latest news update download the app"