Breaking News
अब मंत्री-परिषद के सदस्य उतरेंगें सड़कों पर, जनता को समझाएंगे 'सड़क सुरक्षा' के नियम | 28 सितंबर को फिर भारत बंद का ऐलान, इसके पीछे ये है वजह | 12वीं पास के लिए सरकारी नौकरी पाने का सुनहरा मौका, जल्द करें अप्लाई | शर्मनाक : युवक की हत्या के शक में महिला को निर्वस्त्र कर घुमाया, पथराव-आगजनी, 8 पुलिसकर्मी सस्पेंड | शिवराज कैबिनेट की बैठक खत्म, इन अहम प्रस्तावों को मिली मंजूरी | मॉर्निंग वॉक के दौरान EOW इंस्पेक्टर की मौत, हार्ट अटैक की आशंका | अखिलेश की नजर अब मप्र पर, 3 सितंबर को आएंगें इंदौर | अटल जी के निधन पर पूरे देश में शोक और भाजपा नेता निकाल रहे डीजे यात्रा : कांग्रेस | VIDEO : मोबाईल टॉवर पर चढ़ा शराबी, मचा रहा हंगामा, नीचे उतारने में जुटी पुलिस | चुनावी साल में शिवराज सरकार का मास्टर स्ट्रोक, कुपोषण मिटाने खर्च करेगी 57 हजार करोड़ |

EVM मुद्दे को लेकर SC की शरण में पहुंची कांग्रेस, अगले हफ्ते होगी सुनवाई

भोपाल।

चुनावों में अब सिर्फ कुछ ही माह का समय बचा है। ऐसे में सत्ता वापसी की तैयारी में जुटी कांग्रेस कोई रिस्क नही लेना चाहती, इसलिए मतदाता सूची और ईवीएम जांच को लेकर सख्त हो चली है। मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेेटी की ओर से कमलनाथ ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर चुनावी प्रक्रिया में पारदर्शिता और सुधार की मांग की है| इससे पहले एमपी कांग्रेस की टीम दिल्ली में चुनाव आयुक्त से मिलने पहुंची थी और मप्र में मतदाता सूची का फार्मेट बदलने,मतदाता सूची में दावे आपत्तियों का समय बढ़ाने, मंत्रियों के स्टॉफ में पदस्थ अफसरों को चुनाव आयोग में पदस्थ ना किया जाने की मांग की। कमलनाथ ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर वीवीपीएट पर्चियों के सत्यापन की मांग की है।

दरअसल, शुक्रवार को कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ की ओर से सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई है।  कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर वीवीपीएटी पर्चियों के सत्यापन की मांग की है और कहा है कि सुप्रीम कोर्ट इलेक्शन कमीशन को निर्देश दे कि EVM में डाले गए वोटों का मिलान VVPAT से किया जाए।  कांग्रेस की इस याचिका पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई को तैयार हो गया है।अब इस मामले में अगले हफ्ते सुनवाई की जाएगी।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...