BJP नेता के बयान पर सदन में बवाल, कांग्रेस MLA बोले-वो खून बहाएंगे तो हम गर्दन काट देंगे

भोपाल। बीजेपी नेता और पूर्व विधायक सुरेन्द्र नाथ सिंह के खून खराबे वाले बयान को लेकर सड़क से लेकर सदन तक सियासत गर्माई हुई है। मामले की गूँज विधानसभा में भी सुनाई दी और सत्ता पक्ष के विधायकों ने जमकर हंगामा किया| इस दौरान दोनों पक्षों के बीच तीखी नोंक-झोंक भी हुई।  कांग्रेस विधायकों ने सुरेन्द्र नाथ सिंह की गिरफ्तारी की भी मांग की और जमकर नारेबाजी करते रहे।

मीडिया से चर्चा में कांग्रेस विधायक गिरिराज दंडोतिया भी विवादित बयान दे बैठे और उन्‍होंने कहा कि बीजेपी के नेता यदि खून बहाएंगे तो हम गर्दन काट कर ले आएंगे| सदन में हंगामे के बाद सत्‍तापक्ष के विधायकों ने सदन से वॉकआउट कर दिया। इधर, सुरेन्द्र सिंह ने बयान के बाद संगठन भी नाराज हो चला है वही बीजेपी ने इससे किनारा कर लिया है। अधिकतर विधायकों ने सुरेंद्र नाथ को संयम बरतने की नसीहत दी है| 

दरअसल,  गुरुवार को  नगर निगम द्वारा एमपी नगर से हटाए जा रहे ठेले-गुमठियों और बढ़े हुए बिजली बिलों के विरोध में भाजपा कार्यकर्ताओं व रहवासी विधानसभा घेराव करने पहुंचे थे, लेकिन पुलिस ने पहले ही रोक लिया। पूर्व विधायक सुरेंद्रनाथ सिंह के नेतृत्व में रंगमहल चौराहे से कार्यकर्ता निकले तो उन्हें रोशनपुरा चौराहे के पास पुलिस ने बैरिकेड लगाकर रोक लिया गया।चौराहे पर कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच धक्कामुक्की भी हुई। सभा को संबोधित करते हुए सिंह ने कहा था कि यह तो सांकेतिक प्रदर्शन था। यदि गरीबों के साथ अन्याय हुआ तो अगली बार बिना सूचना दिए ही वल्लभ भवन (मंत्रालय) में घुस जाएंगे।  गरीबों के साथ अन्याय हुआ तो सड़कों पर खून बहेगा और वह खून सीएम कमलनाथ का होगा।इसके बाद से ही सियासत गर्माई हुई है।

 

किसने क्या कहा

 मुझे खुशी है प्रदेश अध्य्क्ष ने संज्ञान लेते हुए कहा अभद्र भाषा कितने बड़े कद नेता है हम सहन नही करेगे। ऐसे व्यक्तियों को पार्टी से बाहर निकलना चाहिए । एसपी ओर आईजी को भी संज्ञान लेना चाहिए। मुख्यमंत्री का खून बहा देंगे इसके पूछे धमकी छुपी हुई है। एसपी आईजी ने संज्ञान नही लिया इस बात का मुझे शोक है।

सज्जन सिंह वर्मा, पीडब्ल्यू मंत्री

भाजपा नेताओं के पिछले 6 महीने से लगातार बयानबाजी सत्ता जाने का दुख और पीड़ा है।यह भूल नहीं पा रहे है कि प्रदेश की जनता ने इनके कृत्यों के कारण 15 साल बाद सत्ता से बाहर कर दिया, यह वह पीड़ा है जो बार बार बाहर आ रही है।इस तरह की बातें लोकतंत्र के लिए अच्छा नही है।अगर सरकार से मदद चाहिए और जनता से जुड़ी कोई ऐसी समस्या है किसका हक दिया जाना चाहिए, बैठ कर बात करिए इसका हल निकाला जाएगा।खून बहा देना आग लगा देना यह गांधी जी की नही गोडसे की संस्कृति है।

तरुण भनोट, वित्तमंत्री

यह बीजेपी की विचार धारा है, जिसे कार्यकर्ता और नेता धीरे धीरे देश और  जनता के सामने ला रहे है।सुरेंद्र नाथ की भाषा असयमित औऱ लोगो को उद्यमिता करने वाली है।बीजेपी में थोड़ा मर्म बचा पार्टी  से बाहर कर देना चाहिए।

जीतू पटवारी, शिक्षा मंत्री

सत्ता से बाहर हो गए तो यह लोग सठिया गए है। निम्न और घिनौनी हरकते कर रहे हैं ।जिंदा रहने के लिए इस तरह के निम्न स्तर के बयान दे रहे हैं । पहले हम से निपटने फिर करें कमलनाथ की बात करे।

सुखदेव पांसे, कैबिनेट मंत्री

यह भाजपा के चरित्र और संस्कृति की दुहाई देने वाला भाजपा का सही चेहरा जनता के सामने आ गया है।जो प्रदेश के मुख्यमंत्री के लिए खून बहाने की बात कह सकते है इसकी जितनी निंदा की जाए वो कम है।मैं प्रधानमंत्री से अनुरोध करता हु की भाजपा की इस प्रकार का चरित्र और संस्कृति पर किस प्रकार अंकुश लगाएंगे।

तुलसी सिलावट, स्वास्थ्य मंत्री 



"To get the latest news update download the app"