Breaking News
कैसे पूरी होगी शिवराज की यह घोषणा | कांग्रेस की उम्मीदों पर फिर पानी, बसपा ने जारी की प्रत्याशियों की पहली सूची | डंपर काण्ड: CM के खिलाफ याचिका खारिज, SC ने कहा-'चुनाव लड़ना है तो मैदान में लड़ें, कोर्ट में नहीं' | बीजेपी विधायक का आरोप, सवर्ण आंदोलन के लिए हो रही विदेशी फंडिंग | व्यापमं का जिन्न फिर बाहर: दिग्विजय ने शिवराज, उमा समेत 18 के खिलाफ किया परिवाद दायर | चुनाव लड़ने का इंतजार कर रहे बीजेपी के 70 विधायकों में मचा हड़कंप! | अधिकारी की कलेक्टर को नसीहत, 'आपकी कार्यशैली पर लज्जा आती है, तबादला करा लें' | दागियों का कटेगा टिकट, साफ-सुथरी छवि के नेताओं को चुनाव में उतारेगी भाजपा | फ्लॉप रहा कांग्रेस का 'घर वापसी' अभियान, सिर्फ कार्यकर्ता लौटे, नेताओं ने बनाई दूरी | शिवराज कैबिनेट की बैठक ख़त्म, इन प्रस्तावों पर लगी मुहर |

लहसुन भी भावांतर में शामिल, 31 मार्च तक होगा पंजीयन

भोपाल। राज्य सरकार ने लहसुन के गिरते भाव के चलते भावांतर में शामिल करने का फैसला किया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को बैठक में प्रमुख सचिव कृषि राजेश राजौरा को लहसुन को भावांतर भुगतान योजना में शामिल करने के निर्देश दिये हैं। इसके लिए लहसुन उत्पादक 20 जिले के किसानों को 31 मार्च तक पंजीयन कराने को कहा है। 

अभी तक सरकार ने रबी सीजन की चना, मसूर, सरसों एवं प्याज फसल को शामिल करने का ऐलान किया था। मुख्यमंत्री ने विधानसभा में लहसुन के गिरते भाव की समीक्षा के बाद इसे भावांतर में शामिल करने को कहा है। साथ ही लहसुन उत्पादक जिले के किसान 15 मार्च से पंजीयन करा सकते हैं। 


लागत मूल्य तय करने बुलाई बैठक

राज्य सरकान ने लहसुन का लागत मूल्य तय करने के लिए गुरुवार को समिति की बैठक राज्य कृषि विपणन बोर्ड कार्यालय में बुलाई है। जिसमें प्रति हेक्टेयर प्रति क्विंटल के हिसाब से लागत तय की जाएगी। समिति 7 दिन के भीतर अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंपेगी। यह समिति रबी एवं खरीफ फसलों की लागत मूल्य की गणना करेगी। 


इन जिलों के किसान करा सकेंगे पंजीयन

लहसुन के लिए 20 जिलों को चिह्नित किया गया है। जिनमें नीमच, रतलाम, उज्जैन, मंदसौर, इंदौर, सागर, छिंदवाड़ा, शिवपुरी, शाजापुर, राजगढ़, छतरपुर, आगर-मालवा, गुना, धार, देवास, सीहोर, रीवा, सतना, भोपाल एवं जबलपुर शामिल हैं।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...