MP : गुरुद्वारा में दान नही दे पाए राहुल गांधी, जेब से निकाला 500 का नोट वापस रखा

ग्वालियर।

सत्ता हासिल करने कांग्रेस सॉफ्ट हिन्दुत्व की राह पर चल रही है।जीत का आशीर्वाद लेने पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी समेत कांग्रेस नेता मंदिर-मंदिर पहुंच रहे है।इसी क्रम में मंगलवार को ग्वालियर-चंबल दौरे पर पहुंचे राहुल गांधी जिले के 'दाताबंदी छोड़' गुरुद्वारा में मात्था टेकने पहुंचे थे। इस दौरान एक दिलचस्प वाकया देखने मिला। यहां राहुल ने दान के लिए जेब से पांच सौ नोट निकाला लेकिन दानपेटी में डालने की बजाए वापस जेब में रख लिया। इस दौरान उनके साथ चुनाव प्रचार समिति के अध्यक्ष सिंधिया, पीसीसी चीफ कमलनाथ समेत गुरुद्वार कमेटी के कई सदस्य भी मौजूद रहे।

दरअसल, एक स्थानीय हिंदी अखबार के मुताबिक, यहां राहुल ने गुरुद्वारे में माथा टेका और मन्नत मांगी. गुरुद्वारा समिति ने राहुल का स्वागत और सम्मान किया. यहां माथा टेकने के बाद जैसे ही राहुल ने गुरुद्वारे के गुल्लक (दानपेटी) में पैसे डालने के लिए 500 रुपये का नोट निकाला तो पीछे खड़े सांसद ज्योतिरादित्य ने उन्हें आचार संहिता याद दिलाई। यह सुनते ही राहुल ने नोट वापस जेब में रख लिया।  आचार संहिता के कारण राहुल गांधी गुरुद्वारे में दान नहीं दे पाए और रोड शो के लिए बाहर निकल आए। हालांकि इस दौरान कमेटी के सदस्यों ने उनका जोरशोर से स्वागत किया। 

बता दें कि राहुल अपने दो दिवसीय एमपी दौरे के दौरान ग्वालियर में ही रुके हैं। दौरे के पहले दिन की शुरुआत राहुल गांधी ने प्रसिद्ध पीताम्बरा माता मंदिर से की थी जहां उन्होंने पूजा-अर्चना की थी। इसके बाद राहुल ने ग्वालियर में एक रोड शो किया था।इसके बाद राहुल गांधी ग्वालियर से श्योपुर रवाना हुए और यहां एक जनसभा को संबोधित कर सरकार पर जमकर हमला बोला।