मंदसौर रेप : बच्ची के डिस्चार्ज को लेकर बवाल, बोर्ड ने कहा- बैठक के बाद लेंगें निर्णय

इंदौर।आकाश धौलपुरे।

प्रदेश के सबसे बड़े शासकीय अस्पताल में मंदसौर रेप कांड की पीड़िता का इलाज जारी है हालांकि डॉक्टरों द्वारा डिस्चार्ज करने को बात पर जमकर बवाल मचा हुआ है क्योंकि मासूम के पिता का एक ऑडियो वायरल हुआ था जिसमे उन्होंने अपनी पीड़ा बताई थी इसके बाद इस मामले को लेकर पीड़ित मासूम के पिता ने मीडिया से भी बात की थी और इसके बाद से एम. वाय. अधीक्षक डॉ. व्ही.एस. पाल के रवैये को लेकर सवाल उठ रहे थे।  इस बीच बुधवार को एम. वाय. अस्पताल द्वारा  मंदसौर रेप पीड़िता के मामले में मेडिकल बुलेटिन जारी किया है लेकिन खास बात ये थी कि मेडिकल बुलेटिन हर बार की तरह डॉ. व्ही . एस. पाल ने नही जारी किया बल्कि उनके स्थान पर डॉक्टर एच. के. नारंग ने मीडिया को जानकारी दी बच्ची की हालत में सुधार हो रहा है उन्होंने बताया कि बच्ची की मानसिक और शारिरिक स्थिति संतोषजनक है। मेडिकल बुलेटिन में ये भी बताया गया कि एम.वाय.अस्पताल की टीम लगातार बच्ची के इलाज में जुटी है । वही मासूम के पिता की नाराजगी और उसके डिस्चार्ज संबंधी बात को डॉ. नारंग ने स्थिति साफ नहीं की है। डॉक्टर की मानें तो मेडिकल बोर्ड इस मामले में अपनी राय रखेगा उसके बाद ही बच्ची को डिस्चार्ज किया जाएगा। फिलहाल बच्ची को डिस्चार्ज किए जाने की बात से डॉक्टर नारंग ने इनकार किया है। एम. वाय. अस्पताल की और से जारी किए गए ताजा बयान के बाद ये तो साफ हो रहा है कि कही ना कही बच्ची के डिस्चार्ज को लेकर एम. वाय. अस्पताल प्रबंधन फंस गया है क्योंकि स्वयं प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान ने ये साफ किया था बच्ची को पूरी तरह से स्वस्थ्य किया जाएगा।