Breaking News
अखिलेश बनाएंगे नई टीम, चुनाव से पहले सपा में शामिल हो सकते हैं कई दिग्गज नेता | शिवराज को रास नहीं आई राहुल-मोदी की 'झप्पी' | राहुल ने संसद में आंख मारी तो सोशल मीडिया पर आ गया 'भूकंप' | ICAI Results 2018: CA-CPT का रिजल्ट घोषित, एमपी के पलाश ने मारी बाजी | उद्योगपति के घर 8 लाख की चोरी, पीछे का ग्रिल तोड़कर घुसे बदमाश | तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव में भोपाल होगा राजनीति का केंद्र, शाह यही डालेंगे डेरा | एक बार फिर बुआ-भतीजा आमने-सामने | PHE के रिटायर्ड अधिकारी से ठगी, ATM बदलकर निकाले डेढ़ लाख रूपये | GOOD NEWS : अब रानी दुर्गावती यूनिवर्सिटी के कर्मचारी भी होंगें 62 में रिटायर | CM ने एक क्लिक में प्रदेश के 46 हजार छात्रों के बैंक खातों में ट्रांसफर किए 113 करोड़ रुपए |

भोपाल की चैताली बेल्जियम में बजाएगी मियां मल्हार, 40 देशों के म्यूजीशियंस एक साथ करेंगें लाइव कन्सर्ट

भोपाल।

दस साल की उम्र से वॉयलिन बजा रही शहर की चैतानी शेवलीकर एथनो फ्लैंडर्स इंटरनेशनल म्यूजिकल एक्सचेंज प्रोग्राम में देश को रिप्रेजेंट करेंगी।दरअसल, प्रतिभागियों को एथनो जर्मनी समर कैंप 2018 के लिए अपनी रिकॉर्डिंग्स भेजनी थीं। देशभर से करीब 7000 एंट्रीज पहुंचीं। भारत से दो लोगों का सिलेक्शन हुआ, जिसमें चैताली का नाम भी शामिल था।

29 जुलाई से 10 अगस्त के बीच होने वाले इस इवेंट में उनके साथ गैंगटोक के पीयूष नेपाल होंगे ।फेस्टिवल में 40 देशों के म्यूजीशियंस एक साथ लाइव कन्सर्ट पेश करेंगे।   चैताली युवा वाॅयलिन वादक हैं और इस इवेंट में भारतीय शास्त्रीय संगीत के तहत वॉयलिन पर मियां मल्हार राग पेश करेंगी। पीयूष गिटार और वोकल्स पर परफॉर्मेंस देंगे।

23 साल की चैताली बताती है कि उन्होंने अपने दादाजी पं. वसंतराव शेवलीकर से वॉयलिन बजाना सीखा है। उनके पिता भी वॉयलिन वादक है। वे अपने परिवार की पंरपरा को आगे बढ़ा रही है। चैतानी भोपाल में भी कई कार्यक्रम कर चुकी है। साथ ही वह आकाशवाणी की ग्रेड आर्टिस्ट भी हैं।चैताली कहती है कि तीन पीढ़ियों के एक साथ वादन की यह सभा मेरे लिए आज भी यादगार है। चैताली ने आज से 3 साल पहले एक समारोह में वॉयलिन बजाया था।उनके साथ उनके पिता और दादाजी भी साथ थे। ये पल उनके लिए काफी यादगार रहा। आज भी जब वे इस पल को याद करती है तो गर्व से भर उठती है। चैतानी की माता जी भी कई तरह के हुनर रखती है। वही चैताली की छोटी बहन भी संगीत में अपना ध्यान लगाए हुए है। 

चैताली आज की उन लड़कियों के लिए मिसाल बनी हुई है जो संगीत में अपना कैरियर बनाना चाहती है। साथ ही उन लोगों के लिए भी जो ये समझते है तो बेटे ही परिवार की परंपरा को आगे बढ़ा सकते है। चैताली ने आज उन तमाम रुढीवादिताओं को तोड़कर एक नई परिभाषा को जन्म दिया है। चैताली की इस पहल ने ना सिर्फ प्रदेश का बल्कि देश का भी  नाम बढ़ाया है।




  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...