तबादलों से बिजली कंपनी के अधिकारी-कर्मचारी परेशान, सरकार से की ये मांग

भोपाल।

राज्य सरकार द्वारा किये जा रहे थोकबंद तबादलों के खिलाफ विरोध के सुर बुलंद होने लगे हैं। मप्र यूनाईटेड फोरम फ़ॉर पावर एम्प्लाइज एंड इंजीनियर्स ने इसका विरोध करते हुए उर्जा मंत्री और कम्पनी के एमडी को पत्र लिखा है। पत्र में कहा गया है कि कम्पनी के अधिकारी कर्मचारी हाई वोल्टेज मैनेजमेंट, बिजली की निर्बाध सप्लाई जैसी आवश्यक सेवाओं ने हर क्षण तैयार रहते हैं ऐसे में थोकबंद तबादलों से व्यवस्था चरमरा सकती है।उन्होंने मांग की है कि तबादले के आदेशों को निरस्त किया जाए।

मप्र यूनाइटेड फोरम फॉर पावर इम्प्लाइज एंव इंजीनियर्स के संयोजक ई.व्ही के परिहार ने बताया कि यह मध्यप्रदेश की सभी उत्तरवर्ती कपंनियों के प्रमुख संघठनों का एक संयुक्त संगठन है।जो प्रदेश की सभी विद्युत कंपनियों के सभी अधिकारियों-कर्मचारियों की समस्या और जायस मांगो को समय समय पर प्रशासन को अवगत कराता है।परिहार का कहना है कि लगातार हो रहे विद्युत कंपनियों के अधिकारियों और कर्मचारियों के तबादले तर्क संगत और विधि संगत नही है।अगर ऐसे ही तबादले चलते रहे तो राजस्व की हानि के साथ साथ विद्युत अव्यवस्था के भी पूर्ण संभावना है।

परिहार का कहना है कि हमारी सरकार से मांग है कि संवेदनशील उच्चदाब संभाग से संबंधित और बड़े शहरों में जो अधिकारी-कर्मचारियों के तबादले के आदेश जारी किए गए है, उन्हें निरस्त किया जाए, ताकी विद्युत व्यवस्था को सही ढंग से चलाया जा सके। 

"To get the latest news update download the app"