चुनाव से पहले बज रही 'घंटी', हैलो! में राहुल गांधी बोल रहा हूँ

भोपाल/इंदौर।

मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव मे जीत हासिल करने पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी अब पीएम मोदी की राह पर चल पड़े है। जिस तरह पीएम मोदी नमो ऐप के जरिए अपने सांसदों और पार्टी नेताओं से बात करते हैं और फीडबैक लेते रहते है,इसी तरह अब राहुल गांधी भी पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं से फोन पर बातचीत कर चुनावी फीडबैक ले रहे है और उन्हें जीत का मूल मंत्र भी बता रहे है। दरअसल, इन दिनों राहुल गांधी ने जिलों के बड़े नेताओं को उनके निजी नंबर पर कॉल करना शुरू किया है।गुरुवा को उन्होंने कई जिलाध्यक्षों को फोन किया और चुनावी तैयारियों के बारे में काफी देर तक चर्चा की।इस दौरान उन्होंने पार्टी के जिलाध्यक्षों से संगठन, गुटबाजी और चुनावी रणनीति जैसे मुद्दों पर चर्चा की।इस दौरान राहुल गांधी ने नेताओं की गुटबाजी खत्म करने पर भी जोर दिया और पैराशूट से उतरने वाले नेताओं को टिकट ना देने की बात कही। 

          दरअसल, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मध्य प्रदेश के इंदौर, मुरैना, मंडला, सिंगरौली समेत करीब 8 कांग्रेस जिलाध्यक्षों से फोन पर बातचीत करने का समय 10 से 11 बजे तक तय था। इस दौरान जिलाध्यक्षों की सांस अटकी हुई थी। राहुल पता नहीं क्या पूछें, लेकिन सभी को उनके फोन का इंतज़ार सुबह से था। पता नहीं कब उनके फोन की घंटी घनघना उठे और दूसरी तरफ से अध्यक्ष महोदय उन्हें तलब कर लें। सबने अपने-अपने हिसाब से तैयारी कर रखी थी।  सबसे पहले राहुल ने इंदौर और मुरैना कांग्रेस जिलाध्यक्षों से फोन पर बात की।  राहुल ने इंदौर कांग्रेस जिला अध्यक्ष सदाशिव यादव से फोन पर बातचीत करते हुए  प्रदेश में विधानसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर चर्चा की। जिसपर जिला अध्यक्ष ने अपने सवाल और सुझाव राष्ट्रीय अध्यक्ष के समक्ष रखे।जिला अध्यक्ष ने कहा कि  कई नेता सिर्फ पद और टिकट के लिए संघर्ष करते हैं, लेकिन  कांग्रेस की सदस्यता बढ़ाने या धरना-प्रदर्शन, आंदोलन में शामिल नहीं होते हैं। इस दौरन राहुल ने जिला अध्यक्ष से टिकट वितरण को लेकर भी चर्चा की।

इसके अलावा  सिंगरौली ज़िला अध्यक्ष तिलकराज सिंह से राहुल गांधी ने उनके क्षेत्र की स्थिति के बारे में जानकारी ली। टीकमगढ़ अध्यक्ष महेश यादव, दतिया ज़िलाध्यक्ष नाहर सिंह, छतरपुर कांग्रेस ज़िलाध्यक्ष मनोज त्रिवेदी, मुरैना ज़िलाध्यक्ष राकेश मावई से भी राहुल गांधी ने बात की।  पार्टी के अंदर चल रही गुटबाजी को बंद करने के लिए भी कहा।। इस दौरान राहुल ने जिलाध्यक्ष से  संगठन की मजबूती को लेकर चर्चा की। बात दें कि 16 अक्टूबर को मुरैना में राहुल का रोड शो और चुनावी सभा होनी है, इसको लेकर भी जिलाध्यक्ष से चर्चा हुई।   

राहुल ने दिया ये संदेश

राहुल गांधी ने मध्य प्रदेश के ज़िलाध्यक्षों को एक ही संदेश दिया कि गुटबाज़ी ना हो और पूरी मज़बूती और तैयारी से चुनाव मैदान में उतरें। उन्होंने कहा कि  संगठन मज़बूत करने के लिए ज़िलाध्यक्षों भी अपने सुझाव दे।कुछ जिलाध्यक्षों के सुझाव राहुल गांधी को काफी हद तक सही लगे, जिसके चलते उन्होंने कई ज़िलाध्यक्षों को दिल्ली बुलाया है।


"To get the latest news update download tha app"