साध्वी को टक्कर देने शहीद करकरे के सहयोगी पूर्व ACP ने भरा नामांकन

भोपाल। एटीएस चीफ शहीद हेमंत करकरे के पूर्व सहयोगी रिटायर्ड असिस्टेंट पुलिस कमिश्नर (एसीपी)  रियाज़ देशमुख ने भोपाल से बीजेपी की प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को टक्कर देने के लिए निर्दलीय नामांकन किया है। साध्वी प्रज्ञा ने हेमंत करकरे की मौत पर विवादित बयान दिया था। जिससे आहत होकर रियाज़ उनके खिलाफ चुनाव लड़ना चाहते हैं। वह माहराष्ट्र के औरंगाबाद के रहने वाले हैं। उन्होंने मंगलवार को अपना नामांकन भोपाल पहुंच कर दाखिल किया था। भोपाल सीट पर पांचवें चरण में 12 मई को मतदान है। 

अपना नामांकन दाखिल करने के बाद उन्होंने कहा कि, 'मैंने सभी ओपचारिकता पूरी कर अपना नामांकन दिखाल कर दिया है और वह स्वाकीर कर लिया गया है। महाराष्ट्र पुलिस के सबसे बेहतरीन और ईमानदार अधिकारियों में से एक को बदनाम करते नहीं देख सकता था। करकरे ने सभी पेशेवर मामलों में मेरा मार्गदर्शन किया था और वह हमेशा मेरे साथ खड़े रहते थे।' पूर्व एसीपी देशमुख हेमंत करकरे के साथ अफने सेवाएं दे चुके हैं। वह उस समय हेमंत के अंडर सब इंस्पेक्टर के तौर पर अपनी सेवाएं दे चुके हैं। देशमुख एसीपी के पद से रिटार्यड हुए हैं। उन्हें सीटी और डायमंड में से कोई चुनाव चिन्ह मिल सकता है। 

कौन हैं रियाज देशमुख 

2016 में महाराष्ट्र के अमरावती से एसीपी के पद पर रहते हुए रियाज रिटायर हुए थे। वह पिछले तीन साल से औरंगाबाद में रहते हैं। उन्होंने तीन दशक से ज्यादा समय तक पुलिस फोर्स को अपनी सेवाएं दी हैं। रिटायरमेंट के वक्त वह अमरावती में क्राइम ब्रांच के मुखिया थे। इसके पहले वह अमरावती में ही क्राइम ब्रांच के इंस्पेक्टर थे। 

"To get the latest news update download the app"