Breaking News
21 अगस्त को भोपाल में होगी 'अटल जी' की श्रद्धांजलि सभा, कांग्रेस भी होगी शामिल | चुनाव से पहले यात्राओं का दौर, दिग्विजय के बाद जयवर्धन ने शुरू की पदयात्रा | कांग्रेस का आरोप- नरेला विधानसभा में 11 हजार फर्जी वोटर, विधायक बोले- असली को नकली बता रहे | प्रशासन बता रहा 'डेंगू' छुआछूत की बीमारी | किसकी होगी पूरी मुराद, आज महाकाल के दर पर सिंधिया-शिवराज | सड़क पर सियासत : कमलनाथ बोले- बुधनी से अच्छी छिंदवाड़ा की सड़कें, शिवराज जी एक बार जरुर आए | सुल्तानगढ़ वॉटरफॉल हादसा : मौत से संघर्ष के बाद भी कैसे हार गई 9 जिंदगियां, देखें वीडियो | शर्मसार : सागर में नाबालिग से गैंगरेप, बीते दिनों ही मिला था सबसे सुरक्षित शहर का तमगा | कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने लिया विस चुनाव में भाजपा को उखाड़ फेंकने का संकल्प | केंद्रीय मंत्री की बहन को एसिड अटैक और मारने की धमकी |

VIDEO : माता की प्रतिमा पर जल चढ़ाते ही हुआ गायब, लोग मान रहे चमत्कार

भोपाल

आपने कई चमत्कारी और आध्यात्मिक मंदिरों में बारे में सुना और पढा होगा।लेकिन आपने ये नही सुना होगी कि कोई देवी पानी पी रही है। जी हां कुछ ऐसा ही चमत्कार मध्यप्रदेश की राजधानी कहे जाने वाले भोपाल में देखने को मिला है, जहां माता के प्रतिमा पर जल चढ़ाते ही जल गायब होता जा रहा है, ऐसा लग रहा है कि देवी मां स्वयं जल पी रही हो।ये चमत्कार छोटा तालाब स्थित काली मंदिर से कुछ ही दूरी पर भोईपुरा केला घाट मंदिर में देखने को मिला है। इस चमत्कार के बाद से यहां भक्तों का तांता लग गया है, हर कोई देवी को पानी पिलाने में जुट गया।वही  श्रद्धालु इसे देवी का आर्शीवाद मानकर पूजा अर्चना कर रहे है। यही नहीं मंदिर परिसर में सिंदूर लगे पैरों के भी निशान मिले हैं। जिसे देखने के लिए दूर-दूर से भक्तों का सैलाब उमड़ रहा है। हालांकि इस चमत्कार के बाद मंदिर के पट बंद कर दिए गए है। बाहर से ही दर्शन करने को कहा जा रहा है, अंदर किसी को जाने नही दिया जा रहा है।

दरअसल, राजधानी भोपाल के भोईपुरा केला घाट पर देवी का मंदिर बना हुआ है।जहां रोज श्रद्धालु पूजा अर्चना करने आते है और देवी को जल चढ़ाते है। रोज की तरह आज भी सुबह के समय 64 मैय्या पर जल चढ़ाने श्रद्धालु पहुंचे थे. लेकिन जैसे जैसे भक्त माता की प्रतिमा पर जल चढ़ाते ही वैसे वैसे जल गायब हो जाता।ऐसे करके लगातार भक्तों द्वारा जल चढ़ाया गया और देखते ही देखते तकरीबन 30 लीटर जल  गायब हो गया।जिसकी सूचना श्रद्धालु ने अन्य लोगों को दी, जिसके बाद केला घाट मंदिर में अद्भुत चमत्कार देखने के लिए श्रद्धालु का हुजूम इकट्ठा हो गया।इस दौरान महिलाओं ने सिंदूर लगे पैरों के निशान के चारों तरफ ईंट का घेरा बना कर, फूल रख दिए हैं। मंदिर के पुजारी ने जब मंदिर परिसर के अन्य स्थानों को देखा तो एक जगह मंदिर परिसर में सिंदूर लगे पैरों के निशान भी मिले। मंदिर पुजारी का कहना है कि यह देवी का ही स्वरूप है। देवी के पैरों के निशान देखने के लिए भारी संख्या में श्रद्धालु की भीड़ लग गयी।

चमत्कार के बाद से ही ये खबर तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। हालांकि अभी तक पता नही चल पाया है कि यह किस वजह से हो रहा है, लेकिन मंदिर के पुजारी और भक्त इसे माता का चमत्कार मान रहे है।



  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...