महापौर चुनाव बिल को लेकर BJP में हलचल तेज, 10 को बुलाई बड़ी बैठक

भोपाल।

महापौर चुनाव बिल पर राज्यपाल की मंजूरी मिलने के बाद बीजेपी में हलचल तेज हो चली है।बीजेपी इसका पुरजोर विरोध कर रही है। इसी के चलते झाबुआ उपचुनाव से पहले भोपाल में दस अक्टूबर को एक बड़ी बैठक बुलाई है। इस बैठक में महापौर चुनाव बिल के विरोध को लेकर रणनीति बनाई जाएगी।बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह, महामंत्री सुहास भगत सहित कई नगर निगम के महापौर और कई बीजेपी नेता शामिल होंगे।

प्रदेश मीडिया प्रभारी लोकेन्द्र पाराशर ने बताया कि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद  राकेश सिंह ने गुरूवार 10 अक्टूबर को दोपहर 12 बजे प्रदेश कार्यालय दीनदयाल परिसर में पार्टी के प्रमुख नेताओं की बैठक बुलाई है। बैठक में स्थानीय निकायों के चुनाव और विशेषकर भोपाल के परिसीमन को लेकर विस्तार से चर्चा की जाएगी। बैठक में पार्टी द्वारा आगामी रणनीति की रूपरेखा तैयार की जाएगी। 

खबर है कि बीजेपी इस विधेयक के विरोध मे हाईकोर्ट जाने की भी तैयारी कर रही है। चुंकी मामला पहले ही केन्द्रीय नेतृत्व  के पास पहुंच चुका है। हाल ही पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज भी राज्यपाल के पास पहुंचे थे।बीजेपी शुरु से ही इस बिल का विरोध कर रही है और लागू होने से पहले सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन और फिर कोर्ट जाने की तैयारी मे ंहै।

प्रदेश सरकार के अध्यादेश से खरीद फरोख्त बढ़ेगी- गोपाल भार्गव

नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कहा कि प्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव में बदलाव के लिए लाए गए अध्यादेश से पार्षदों की ख़रीद-फरोख्त बढ़ेगी। पार्षदों की ख़रीद-फरोख्त रोकने के लिए सरकार को नगरीय निकायों में भी दल बदल कानून लागू करना चाहिए। इसके लिए भी सरकार अध्यादेश लाए।  सरकार के इस अध्यादेश  लागू होने से जनता अपने अधिकार से वंचित हो जाएगी।भार्गव ने कहा कि भारत में शायद मध्य प्रदेश की ऐसा राज्य है जहां पर जनता से सीधे अध्यक्ष और महापौर चुनने की व्यवस्था है। इससे प्रदेश के नगर अब विकास की दौड़ में पिछड़ जाएंगे। पार्षदों की खरीद फरोख्त और भ्रष्टाचार बढेगा। सरकार धनबल, बाहुबल ओर सत्ताबल के आधार पर गिने-चुनें पार्षदों को प्रभावित करेगी। आम मतदाता की आवाज का कोई महत्व नही होगा। उन्होंने कहा कि इस अध्यादेश के लागू होने के बाद ही तत्काल लोग अभी से पार्षदों को प्रभावित करने के हथकंडे अपनाने लगे है, इसका विकृत स्वरूप जल्द ही जनता के सामने आएगा। उन्होंने अध्यादेश पर पार्टी नेतृत्व से चर्चा के उपरांत अगला कदम उठाने की बात कही है। 



"To get the latest news update download the app"