पथराव-फायरिंग मामला : अदालत ने 27 मार्च तक फैसला रखा सुरक्षित

छतरपुर।

लोकसभा चुनाव के दौरान केंद्रीय मंत्री उभा भारती और उनके गार्ड के पर हुए जानलेवा हमला मामले में सुनवाई पूरी हो चुकी है। इस मामले की सुनवाई प्रक्रिया पूरी हो जाने के बाद पूर्व में इस मामले के फैसले के लिए कोर्ट ने 14 मार्च की तारीख मुकर्रर की थी और आज इस मामले में फैसला सुनाया जाना था , लेकिन फैसला सुनाया नही गया। जिला अदालत ने इस फैसला को 27 मार्च तक सुरक्षित रख लिया है। अब कोर्ट अपना फैसला 27  मार्च को सुनाएगा। 

दरअसल,  ये मामला आज से बीस साल पुराना है। वर्ष 1998 में वर्तमान केंद्रीय जल संसाधन मंत्री उमाभारती संसदीय चुनाव में भारतीय जनता पार्टी से खजुराहो सीट की प्रत्याशी थीं। 27-28 फरवरी 1998 में वे टीकमगढ़ से छतरपुर होते हुए मैहर दर्शन के लिए जा रही थीं। इसी दौरान उन्हें बसारी गांव में लगभग आधा सैकड़ा लोगों ने घेर लिया। ड्राइवर ने किसी तरह से उमा भारती को वहां से निकाल लिया। इस मामले में केंद्रीय मंत्री उभा भारती के सुरक्षाकर्मी हरिओम लाटौरिया ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी ।मामले में कांग्रेस के जिलाध्यक्ष समेत 15 लोगों को आरोपी बनाया गया था, जिनमें से 3 लोगों की मौत अब तक हो चुकी है।सभी आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 148, 149, 341, 332, 307 के तहत आरोप लगाए। इस मामले में आज फैसला टाल गया। अब फैसला 27 मार्च को सुनाया जाएगा।

ये है आरोपी

मनोज त्रिवेदी, अर्जुन सिंह, गोविंद सिंह, भगवानदास नामदेव, सलीम खान, हफीज उर्फ जमाल, रघुवीर प्रसाद, शहादत खान, संजीव राज, लखनलाल दुबे, शंकर नामदेव, फैयाज खान ।


इनकी हो चुकी है मौत 

अशोक कुमार, इदरीश और एक अन्य ।

"To get the latest news update download tha app"