कांग्रेस में प्रदेशाध्यक्ष के लिए रायशुमारी का दौर शुरु, चौंकाने वाला हो सकता है ऐलान

भोपाल।

लंबे इंतजार के बाद कांग्रेस को जल्द नया प्रदेशाध्यक्ष मिलने वाला है। कांग्रेस में आज से  रायशुमारी का दौर भी शुरू हो गया है।इसके लिए प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया आज भोपाल पहुंच रहे है और पार्टी नेताओं से नामों को लेकर चर्चा करेंगें।बावरिया सभी से उनकी राय जानेंगें कि प्रदेश की कमान किसे सौंपी जाए ।इसके बाद जिन नामों पर सहमति बनेगी उसकी रिपोर्ट राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी को सौंपी जाएगी। संभावना जताई जा रही है कि 22 अगस्त को दिल्ली में होने वाली राजीव गांधी के 75 वें जयंती समारोह के बाद नये पीसीसी चीफ के नाम का ऐलान किया जा सकता है।

दरअसल, लोकसभा चुनाव में हार के बाद से ही कांग्रेस में प्रदेश संगठन में बदलाव की मांग उठ रही है । भोपाल से लेकर दिल्ली तक इसको लेकर कई बार बैठके भी हो चुकी है, लेकिन अबतक नाम फाइनल नही हो पाया है। वर्तमान में मुख्यमंत्री कमलनाथ ही प्रदेशाध्यक्ष का प्रभार संभाले हुए हैं। नाथ लोकसभा चुनाव के बाद पार्टी अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे चुके हैं, लेकिन पार्टी आलाकमान ने नए अध्यक्ष बनने तक उन्हें पद पर बने रहने को कहा है। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष के चयन में हुई देरी से पिछले ढाई महीने से पीसीसी चीफ का फैसला अटका था। लेकिन अब पार्टी ने फिर से प्रदेशाध्यक्ष को लेकर कवायद शुरु कर दी है, बावरिया ने रायशुमारी के लिए करीब दो सौ नेताओं को संदेश भेजा है और उनकी राय जानी है। चर्चाओं का दौर दो दिन चलने वाला है। इसके बाद रिपोर्ट दिल्ली में होने वाली 22  अगस्त को बैठक में पेश की जाएगी।बैठक में सोनिया, राहुल, पूर्व सीएम दिग्विजय, सीएम कमलनाथ, कांग्रेस नेता सिंधिया और दीपक बावरिया शामिल होंगें।  माना जा रहा है कि इसी बैठक में कांग्रेस नए अध्यक्ष के नाम का ऐलान कर सकती है।वही राष्ट्रीय अध्यक्ष के नाम पर भी सहमति बन सकती है।

हो सकता है चौंकाने वाला ऐलान

सुत्रों की माने तो सीएम कमलनाथ और प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया चौंकाने वाले नाम पर सहमति जता सकते है। दोनों की मंशा ऐसे व्यक्ति को प्रदेश की कमान सौंपने की है जो संगठन को ना सिर्फ मजबूत कर सके बल्कि एक सुत्र मे बांध सके।जिसे संगठन में काम करने का अनुभव हो, जो जिला पदाधिकारियों को कार्यक्रम के बारे में सही जानकारी दे सके, ताकी सगंठन और सरकार में मजबूती बनी रहे ।दोनों के बीच तालमेल बनाकर रखे।जो रणनीति के तहत काम करे, ऐसे में माना जा रहा है किसी चौंकाने वाले नाम पर सहमति बन सकती है।हालांकि चर्चा में कई नाम पहले से ही बने हुए है।

बाला बच्चन बनेंगे अध्यक्ष

इस मामले में प्रदेश के मंत्री सज्जन सिंह वर्मा का कहना है कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष की कमान सीएम कमलनाथ के पसंद के व्यक्ति को मिलेगी, ताकि सत्ता और संगठन के बीच बेहतर समन्वय के साथ काम हो सके। बाला बच्चन पीसीसी चीफ के लिए उपयुक्त चेहरा हैं। सीएम कमलनाथ और सोनिया गांधी के बीच मशविरे के बाद ही पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष के नाम का ऐलान किया जाएगा।

रेस में ये नेता शामिल

इस रेस में सबसे आगे कमलनाथ के विश्वस्त और आदिवासी नेता बाला बच्चन का नाम है।वर्तमान में वे कमलनाथ कैबिनेट में गृहमंत्री है।इसके अलावा उमंग सिंघार, ओमकार मरकाम और शोभा ओझा का नाम भी शामिल है। वहीं, मंत्री जीतू पटवारी, एनएसयूआई की राष्ट्रीय अध्यक्ष और यूथ कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष रही मीनाक्षी नटराजन के नाम की भी चर्चाएं है।सुत्रों की माने तो धारा 370  का समर्थन करने के बाद कांग्रेस, ज्योतिरादित्य सिंधिया से खफा है और इसीलिए उनका नाम मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष से दूर ही रखा जा रहा है।जबकी लोकसभा चुनाव की हार के बाद सिंधिया का नाम तेजी से चला था।



"To get the latest news update download the app"