एमपी में किसान ने कर्ज से परेशान होकर की खुदकुशी, अब तक 71 कर चुके है आत्महत्या

डबरा।

भले ही प्रदेश में सत्ता परिवर्तित हो गई है, किसानों का कर्ज माफी किया जा रहा हो लेकिन किसान आत्महत्या के मामले थमने का नाम नही ले रहे है।अब डबरा में एक किसान ने कर्ज से परेशान होकर आत्महत्या कर ली।घटना के बाद हड़ंकप मच गया है। इससे पहले हाल ही में सिंगरौली में एक किसान ने आत्महत्या का प्रयास किया था।इस मामले में चार पुलिसकर्मियों को निलंबित भी किया गया था।लेकिन हालात जस के तस बने हुए है।

दरअसल, एक तरफ प्रदेश और देश की सरकारें किसान हित में काम करने दावा कर रहीं हैं तो दूसरी तरफ किसानों की आत्महत्याएं जारी है।अब ग्वालियर जिले के डबरा के भितरवार थाना क्षेत्र के ईटाम गांव के किसान बुटाराम शर्मा ने जहर खाकर आत्महत्या कर ली है। परिजनों के अनुसार किसान बैंक के कर्ज से परेशान था।इससे पहले सिंगरौली जिले के सरई थाना परिसर में एक किसान के आत्महत्या के प्रयास के मामले में चार पुलिस कर्मचारियों को निलंबित कर दिया गया है। वही हाल ही में विधानसभा के मानसून सत्र के दौरान भी कर्जमाफी और किसान आत्महत्या को लेकर खूब बवाल मचा था, लेकिन बावजूद इसके कोई सुधार नही हो रहा है। किसान आए दिन कर्ज और बैंकों के नोटिस से परेशान होकर आत्महत्या जैसा कदम उठाने को मजबूर हो रहे है।

71 किसानों ने की आत्महत्या 

बता दे कि हाल ही गृहमंत्री बाला बच्चन द्वारा विधानसभा में दी गई जानकारी के अनुसार, पिछले साल एक दिसंबर से इस साल 12 जून तक राज्य में किसानों की आत्महत्या के कुल 71 मामले सामने आए। एक सवाल के लिखित जवाब में गृहमंत्री ने बताया था कि प्रदेश में एक दिसंबर 2018 से 12 जून 2019 तक कुल 71 किसानों ने आत्महत्या की। इनमें से सर्वाधिक आत्महत्याएं 14 सीधी में और 13 सागर जिले में दर्ज हुईं।


"To get the latest news update download the app"