Breaking News
कैसे पूरी होगी शिवराज की यह घोषणा | कांग्रेस की उम्मीदों पर फिर पानी, बसपा ने जारी की प्रत्याशियों की पहली सूची | डंपर काण्ड: CM के खिलाफ याचिका खारिज, SC ने कहा-'चुनाव लड़ना है तो मैदान में लड़ें, कोर्ट में नहीं' | बीजेपी विधायक का आरोप, सवर्ण आंदोलन के लिए हो रही विदेशी फंडिंग | व्यापमं का जिन्न फिर बाहर: दिग्विजय ने शिवराज, उमा समेत 18 के खिलाफ किया परिवाद दायर | चुनाव लड़ने का इंतजार कर रहे बीजेपी के 70 विधायकों में मचा हड़कंप! | अधिकारी की कलेक्टर को नसीहत, 'आपकी कार्यशैली पर लज्जा आती है, तबादला करा लें' | दागियों का कटेगा टिकट, साफ-सुथरी छवि के नेताओं को चुनाव में उतारेगी भाजपा | फ्लॉप रहा कांग्रेस का 'घर वापसी' अभियान, सिर्फ कार्यकर्ता लौटे, नेताओं ने बनाई दूरी | शिवराज कैबिनेट की बैठक ख़त्म, इन प्रस्तावों पर लगी मुहर |

आंखों में पीड़ा और हाथों में फांसी का फंदा लेकर जनसुनवाई में पहुंचा किसान, मचा हड़कंप

नरसिंहपुर।

मध्यप्रदेश के नरसिंहपुर जिले में कलेक्टर जनसुनवाई में उस वक्त हड़कंप मच गया जब एक किसान हाथों में फांसी का फंदा लेकर पहुंचा और कलेक्टर के सामने ही फांसी लगाने की बात कहने लगा। किसान सरकारी सिस्टम से परेशान हो गया था इसलिए न्याय की गुहार लगाने जनसुनवाई में पहुंचा। 

किसान का आरोप था कि उसे नवंबर-दिसंबर में समर्थन मूल्य पर धान बेचने के बाद भी अब तक मार्च उसका भुगतान नहीं मिला है। किसान ने कलेक्टर से कहा कि या तो उसे न्याय दिया जाए या फिर उसे फांसी देकर जीवन से मुक्ति दे दी जाए।कलेक्टर ने तुरन्त संबधित अधिकारियों को पीड़ित किसान का भुगतान करने के निर्देश दिए। बता दे कि  जिले में करीब 500 से ज्यादा ऐसे किसान हैं, जिन्हें अभी भावांतर भुगतान योजना का पैसा नहीं मिला है।

दरअसल, हिनौतिया गांव के किसान अविनेश चौहान का आरोप है कि उसने बीते 28 दिसंबर को 1 लाख 55 हजार की धान सहकारी समिति को बेची थी, लेकिन 15 दिन में भुगतान के शासन के निर्देश के बावजूद उसे 5 महिने गुजर जाने के बावजूद पैसा नहीं मिला।उसने इसकी शिकायत जनसुनवाई में कई बार की है। इसके साथ ही किसान ने बताया कि वह इसकों लेकर सीएम हेल्पलाइन पर भी शिकायत कर चुका है। लेकिन इन सब के बावजूद अब तक उसे कोई लाभ नही मिला। भुगतान नहीं होने पर सरकारी सिस्टम से परेशान होकर अविनेश मंगलवार को हाथों में फांसी का फंदा लेकर जनसुनवाई में पहुंचा और कलेक्टर से न्याय की गुहार लगाई। न्याय ना मिलने पर जीवन से मुक्ति देने की मांग की।इस पर कलेक्टर ने उसे आश्वासन दिया औऱ जांच के निर्देश जारी किए।

किसान का कहना था कि उसे 20 हजार रुपए बिजली बिल के देने हैं, 50 हजार रुपए का कर्ज चुकाना है, किराना वाला उधार नहीं दे रहा है। अपने भुगतान के लिये उसे बार-बार एक अधिकारी से दूसरे अधिकारी तक चक्कर काटने पर मजबूर होना पड़ रहा है। इसलिए मजबूरन मुझे से कलक्ट्रेट में फांसी का फंदा लेकर आना पड़ा।

अब सवाल खड़ा होता है कि क्या कलेक्टर के निर्देश पर किसान को पैसा मिलेगा या भुगतान सिर्फ आश्वासन पर ही अटक कर रह जाएगा।


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...