Breaking News
कैसे पूरी होगी शिवराज की यह घोषणा | कांग्रेस की उम्मीदों पर फिर पानी, बसपा ने जारी की प्रत्याशियों की पहली सूची | डंपर काण्ड: CM के खिलाफ याचिका खारिज, SC ने कहा-'चुनाव लड़ना है तो मैदान में लड़ें, कोर्ट में नहीं' | बीजेपी विधायक का आरोप, सवर्ण आंदोलन के लिए हो रही विदेशी फंडिंग | व्यापमं का जिन्न फिर बाहर: दिग्विजय ने शिवराज, उमा समेत 18 के खिलाफ किया परिवाद दायर | चुनाव लड़ने का इंतजार कर रहे बीजेपी के 70 विधायकों में मचा हड़कंप! | अधिकारी की कलेक्टर को नसीहत, 'आपकी कार्यशैली पर लज्जा आती है, तबादला करा लें' | दागियों का कटेगा टिकट, साफ-सुथरी छवि के नेताओं को चुनाव में उतारेगी भाजपा | फ्लॉप रहा कांग्रेस का 'घर वापसी' अभियान, सिर्फ कार्यकर्ता लौटे, नेताओं ने बनाई दूरी | शिवराज कैबिनेट की बैठक ख़त्म, इन प्रस्तावों पर लगी मुहर |

भावांतर भुगतान योजना में अटके सवा लाख किसानों के 212 करोड़ रुपए

भोपाल। भावांतर भुगतान योजना के तहत फसल बेचने वाले किसानों को ढाई महीने बाद भी अंतर की राशि नहीं मिली है। 1.26 लाख किसानों के 212 करोड़ रुपए का भुगतान अटका है। जबकि भावांतर भुगतान योजना के तहत केंद्र सरकार ने अभी तक एक रुपया भी नहीं दिया है। विधायक जीतू पटवारी के सवाल के लिखित जवाब में यह जानकारी कृषि मंत्री गौरीशंकर बिसेन ने विधानसभा में दी है।

 बिसेन ने बताया कि भावांतर में 971 करोड़ रुपए केंद्र का अंश देेन के लिए 9 फरवरी 2018 को पत्र लिखा गया था, अभी तक एक पैसा भी नहीं मिला है। मंत्री ने बताया कि भावांतर भुगतान योजना में 18.45 लाख किसानों ने पंजीयन कराया था। जिसमें से 9.54 लाख किसानों को 1316 करोड़ रुपए का भुगतान किया जा चुका है। खास बात यह है कि खरीफ की प्रमुख फसलों को भावांतर के तहत बेचने की समय सीमा 31 दिसंबर को समाप्त हो चुकी है, इसके बावजूद भी अभी तक किसानों को 212 करोड़ रुपए का भुगतान नहीं किया है। 

विधायक जीतू पटवारी के एक अन्य सवाल के जवाब में मंत्री विश्वास सारंग ने स्वीकारा कि 2016 में प्याज खरीदने पर 81 करोड़ रुपए की हानि हुई थी। 

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...