RAIN ALERT: एक साथ कई सिस्टम हुए सक्रिय, अगले दो दिन प्रदेश में भारी बारिश की चेतावनी

भोपाल।

मानसून के लगातार सक्रिय होने पर प्रदेश में झमाझम बारिश हो रही है। पिछले घंटों में भोपाल समेत कई जिलों में बारिश हो रही है। नदी नाले उफान पर आ गए है, कई मार्ग बंद हो गए है, बांधों के गेट खोले गए है और सड़कों पर जलभराव की स्थिति बनी हुई है।  मौसम विभाग के अनुसार राजधानी समेत कई इलाकों में दो दिन भारी बारिश का अनुमान है। मानसून सक्रिय रहा तो ये गतिविधियां दो से तीन दिनों तक और बढ़ेंगी।

खंडवा और भोपाल में एक-एक इंच से ज्यादा बारिश हो चुकी है, जबकि इंदौर में सूखा है। शहर में बारिश का आंकड़ा 29 इंच पर अटका हुआ है। चार दिन से पानी नहीं गिरा है। हालांकि 26 अगस्त के बाद तेज बारिश के आसार हैं। वहीं, शुक्रवार को दिनभर धूप रही, लेकिन शाम को बादल छाने और हवा चलने से राहत मिली। अधिकतम तापमान 29.6 डिग्री रहा, जो सामान्य से दो डिग्री ज्यादा है। न्यूनतम तापमान 22 डिग्री रहा।लेकिन अब अरब सागर और बंगाल की खाड़ी में फिर सिस्टम सक्रिय हो रहा है। इस बार अरब सागर में बना सिस्टम महीने के अंत में तेज बारिश करेगा।उत्तर-पूर्व और उससे लगे उप्र पर सक्रिय कम दबाव का क्षेत्र ऊपरी हवा के चक्रवात में तब्दील हो गया है। इससे बरसात में और तेजी आएगी।

बड़े तालाब और डैम का हाल

लगातार बारिश के चलते नगर निगम ने भदभदा डैम के दो गेट आज शनिवार सुबह 7 बजे खोल दिए हैं। वहीं कलियासोत डैम के कैचमेंट एरिया में भी पानी पूरी रात बरसा है, जिससे कलियासोत डैम भी लबालब हो गया।  7-8 घंटे तक दोनों डैम के गेट खुले रहेंगे। पहले बड़े तालाब को 1666.60 फीट तक खाली किया जाता था, लेकिन अब 1666.70 फीट तक जल स्तर तक ही खाली किया जाता है।दूसरी ओर कोलार डैम के जल स्तर में मामूली इजाफा हो रहा है। शुक्रवार को इसका जल स्तर 455.58 मीटर दर्ज किया गया था। एक दिन पहले इसका जल स्तर 455.52 मीटर था। यानी एक दिन सिर्फ 0.06 मीटर ही इजाफा हुआ। अभी फुल टैंक लेवल तक पहुंचने के लिए 6.62 मीटर पानी की जरूरत है। कोलार डैम का फुल टैंक लेवल 462.20 मीटर है।


इसके चलते सिस्टम में हो रहा बदलाव

वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक के अनुसार,  एक साथ कई कारक पूरे प्रदेश सहित शहर में अच्छी बारिश के योग बना रहे हैं। उत्तर-पूर्व मध्यप्रदेश और उससे सटे दक्षिण उत्तर प्रदेश में औसत समुद्र तल से 1.5 किमी ऊपर चक्रवाती परिसंचरण बना हुआ है। बंगाल की खाड़ी में साइक्लोनिक सर्कुलेशन के असर से ओडिशा एवं आसपास निम्न दबाव का क्षेत्र बनने जा रहा है। इससे प्रदेश में 24 अगस्त को पूर्वी हिस्सों में तेज बारिश होगी, वहीं 25 एवं 26 अगस्त को पश्चिमी मप्र में इसका असर दिखेगा। भोपाल में भी अच्छी बारिश होने की संभावना है।

अगले 24 घंटे कैसा रहेगा मौसम

मौसम की जानकारी देने वाले स्काईमेट के मुताबिक, अगले 24 घंटों के दौरान, पश्चिमी मध्य प्रदेश तथा उससे सटे दक्षिण-पूर्वी राजस्थान, ओडिशा और गंगीय पश्चिम बंगाल, तटीय कर्नाटक तथा केरल सहित अंडमान-निकोबार द्वीप समूह के हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ एक-दो स्थानों पर भारी वर्षा की संभावना है।इसके अलावा, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, बाकी बचे मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, बाकी बचे ओडिशा, झारखंड, तटीय आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, दक्षिणी आतंरिक कर्णाटक, रायलसीमा और आतंरिक तमिलनाडु के हिस्सों में अलग-अलग स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश की उम्मीद है। वहीं, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान के पश्चिमी हिस्से सहित कच्छ में मौसम मुख्यतः शुष्क बना रहेगा।


"To get the latest news update download the app"