Breaking News
खाना खाने के बाद बिगड़ी तबियत, दो सगी बहनों की मौत, मां की हालत गंभीर | पूर्व राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा की जन्मशताब्दी मनाएगी सरकार : शिवराज | अस्पताल के बच्चा वार्ड में लगी आग, मची अफरा-तफरी, 35 बच्चे थे भर्ती | खुशखबरी : मंत्री ने किसानों की मांग की पूरी, मोहनी सागर डेम से हरसी के लिए छुड़वाया पानी | पदोन्नति में आरक्षण : अब 22 अगस्त को होगी अगली सुनवाई, सपाक्स रखेगा अपना पक्ष | MP : आकाशीय बिजली का कहर, मवेशी चराने गए 6 लोगों की मौत, 12 घायल | गंगा की गोद में समाए 'अटल', 'बेटी नमिता ने ऊं' के उच्चारण के साथ हरकी पैड़ी में विसर्जित की अस्थियां | 'मजनू' के सिर से उतारा इश्‍क का भूत, लड़की ने चप्पलों से पीटा, भीड़ ने काटे बाल | महाकाल मंदिर के बाहर खून-खराबा, युवक ने दंपत्ति पर किया चाकू से हमला, मचा हड़कंप | BSP राष्ट्रीय महासचिव का गठबंधन से इंकार, कहा- प्रदेश की 230 सीटों पर लडेंगें चुनाव |

VIDEO: पंचतत्व में विलीन हुए भय्यूजी महाराज, बेटी ने दी मुखाग्नि

इंदौर| आध्यात्मिक गुरु और राष्ट्रीय संत भय्यूजी महाराज के अचानक इस दुनिया को अलविदा कहने से सवाल तो कई खड़े हुए है लेकिन अंततः हर एक शख्स की जिंदगी की मौत तय होती है वो कब, कहा और कैसे होनी है ये भी तय होता है। इंदौर सहित देशभर में ख्याति अर्जित कर चुके राष्ट्रीय संत भय्यूजी महाराज ने अचानक खुदकुशी के फैसला लिया और अपनी जान दे दी इसके बाद बुधवार सुबह से ही उनके अनुयायी उनके अंतिम दर्शन के लिए सुखलिया स्थित सूर्योदय आश्रम पहुंचे। जहां से उनकी अंतिम यात्रा निकाली गई। वही सयाजी होटल के पीछे स्थित मुक्तिधाम में उनका अंतिम संस्कार किया गया। भय्यूजी महाराज की पहली पत्नि की बेटी कुंहु ने उन्हें मुखाग्नि दी और एक ज्वलंत उदाहरण समाज मे पेश किया। 

बकायदा पूरे विधि विधान से संत भय्यू महाराज का अंतिम संस्कार किया गया|  इस दौरान श्रद्धालुओं द्वारा उनकी जयजयकार के नारे भी लगाए गये। दुनिया को अलविदा कह चुके भय्यूजी महाराज अब कभी जीवंत रूप में सामने नही होंगे लेकिन उनसे जुड़े हर शख्स के जेहन में वे हमेशा बने रहेंगे। वही अचानक हुए इस मामले में अब पुलिस की तफ्तीश शुरू होगी ताकि एक संत की मौत की असली वजह सामने आ सके।

बुधवार सुबह से उनको चाहने वालो का तांता उनके अंतिम दर्शन के लिए इंदौर के सुखलिया स्थित सूर्योदय आश्रम में लगा हुआ। केंद्रीय मंत्री, रामदास आठवले, राज्यमंती दर्जा प्राप्त कंप्यूटर बाबा, महाराष्ट्र के शिवसेना सांसद चंद्रकांत पेरे, महाराष्ट्र की मंत्री पंकजा मुंडे, इंदौर की प्रथम नागरिक महापौर मालिनी गौड़, कलेक्टर निशांत वरबड़े, डीआईजी हरिनारायण चारि मिश्र, विधायक रमेश मेंदोला, कांग्रेस प्रवक्ता शोभा ओझा सहित अनेक गणमान्य नागरिकों ने उनके अंतिम दर्शन किये। 

इसके बाद दोपहर 2 बजकर 15 मिनिट पर उनकी शवयात्रा प्रारंभ हुई और उनका अंतिम संस्कार सयाजी क्षेत्र में स्थित मुक्ति धाम में किया जाएगा। फूलो से सजी गाड़ी में उनकी शवयात्रा निकाली गई जिसमें उनकी बेटी सहित परिवार के अन्य सदस्य भी मौजूद थे।




  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...