नक्‍सलियों के लेटर में दिग्विजय का मोबाइल नंबर, पुणे पुलिस कर सकती है पूछताछ

पुणे/भोपाल।

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस के चाणक्य कहे जाने वाले वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह विवादों में घिरते नजर आ रहे है। देश में नक्‍सलियों की मदद करने और उनके संपर्क में रहने के मामले में कांग्रेस नेता दिग्विजय का नाम भी सामने आया है।  महाराष्ट्र में पिछले साल 31 दिसंबर को हुई भीमा कोरेगांव हिंसा की जांच कर रही पुणे पुलिस ने नक्सल संबंधों दिग्विजय सिंह की भूमिका पर सवाल उठाए हैं। पुणे पुलिस के मुताबिक भीमा कोरेगांव केस की जांच के दौरान दिग्विजय सिंह का मोबाइल नंबर नक्‍सलियों के पास होने की बात सामने आई है, इसके उन्‍हें प्रमाण भी मिले हैं। 

माना जा रहा है कि दिग्विजय सिंह का नक्‍सली कनेक्‍शन सामने आने के बाद पुणे पुलिस उनसे भी भीमा कोरेगांव केस के संबंध में पूछताछ कर सकती है। वह जनवरी में हुई इस हिंसा में कांग्रेस के इस दिग्गज नेता की भूमिका की वह जांच कर रही है।  भीमा कोरेगांव हिंसा की जांच कर रही पुणे पुलिस को इस मामले के तार कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह से जुड़ते दिख रहे हैं। पुलिस का कहना है कि अगर जरूरत पड़ी, तो हम दिग्विजय सिंह को जांच में जुड़ने के लिए समन भी कर सकते हैं।इस मामले में पुलिस पहले ही कुछ सामाजिक कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर चुकी है। पुणे पुलिस का दावा है कि गिरफ्तार हुए कार्यकर्ताओं के पास से सीज किए गए पत्रों में दिग्विजय का नंबर लिखा हुआ था।

गौरतलब है कि इससे पहले बीजेपी की तरफ से कांग्रेस के इस बड़े नेता पर नक्सल लिंक का आरोप लगाया गया था। दिग्विजय ने बीजेपी के इस आरोप पर तुरंत कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि अगर बीजेपी मुझपर नक्सली होने के आरोप लगा रही है तो सरकार मुझे गिरफ्तार क्यों नहीं करती? हाल ही में भोपाल में मीडिया से रुबरु होने के बाद बीजेपी नेता संबित पात्रा ने भी आरोप लगाए थे कि दिग्विजय सिंह के कनेक्शन्स नक्सलियों के साथ हैं। 


नक्‍सलियों के पास से मिले पत्र में दिग्विजय का नंबर होने की पुलिस ने की पुष्टि



"To get the latest news update download tha app"