शहडोल कलेक्टर की कथित वायरल चैट मामले की जांच की मांग, चुनाव आयोग को शिकायत

भोपल।  शहडोल कलेक्टर अनुभा श्रीवास्तव और डिप्टी कलेक्टर पूजा तिवारी की कथित चैट के सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद मामला राजनीतिक तूल पकड़ने लगा है| कांग्रेस ने मामले की जांच की मांग की है| वायरल हुई इस कथित चैट में कलेक्टर द्वारा डिप्टी कलेक्टर को भाजपा को जिताने की बात कही जा रही है| चैट के स्क्रीनशॉट को विधानसभा चुनाव के समय का बताया जा रहा है| हालांकि डिप्टी कलेक्टर पूजा तिवारी ने इसे फर्जी बताते हुए इस मामले में एफआईआर दर्ज कराई है| वहीं  मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय ने इसको लेकर चुनाव आयोग को रिपोर्ट भेजी है। इसमें उन्होंने चैट को बनावटी बताया है। आरटीआई एक्टिविस्ट अजय दुबे ने मोबाइल फोन जांच के लिए साइबर सेल भेजने की मांग उठाई है तो सीईओ कार्यालय ने उन्हें ट्वीट के माध्यम से जवाब दिया है।

मामले की जांच की मांग उठी है| शहडोल जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष आजाद बहादुर सिंह ने कहा कि वह जिले की तीनों विधानसभा सीटों पर फिर से चुनाव की मांग करेंगे। वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अजय सिंह ने कहा कि वह सीएम कमलनाथ से कलेक्टर और डिप्टी कलेक्टर की मोबाइल जब्त कर फॉरेंसिंक जांच कराने के लिए कहेंगे। आरटीआई कार्यकर्ता अजय दुबे ने मामले की शिकायत चुनाव आयोग में की थी| मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने कहा कि मामला फ्रीक्रेटेड है| पुलिस जांच कर रही है| एसपी कुमार सौरभ ने कहा, मामले की जांच के लिए टीमें गठित की है| वहीं कांग्रेस जिला अध्यक्ष आजाद बहादुर सिंह ने मामले को लोकतंत्र की हत्या बताते हुए लिप्त अफसरों पर कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है| 

चुनाव आयोग को रिपोर्ट भेजी, चैट बनावटी  

वरिष्ठ आरटीआई एक्टिविस्ट अजय दुबे ने चुनाव आयोग को ट्वीट के माध्यम से शिकायत करते हुए शहडोल कलेक्टर और डिप्टी कलेक्टर के मोबाइल जब्त करके फॉरेंसिंक जांच कराने की मांग उठाई है। इस पर सीईओ ऑफिस की ओर से ट्वीट के माध्यम से जवाब दिया गया कि यह पूरा चैट बनावटी है। किसी ने फर्जीवाड़ा करके डिप्टी कलेक्टर पूजा तिवारी के नाम से इसे चलाया है। ऐसा कोई वार्तालाप नहीं हुआ है। इस मामले में तिवारी ने 14 जनवरी को एफआईआर भी दर्ज कराई है और इसकी जांच चल रही है। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने बताया कि चुनाव आयोग को रिपोर्ट भेज दी है और पूरा चैट बनावटी है।


मोबाइल से खींची गई चैट की फोटो 

मामले की पुलिस जांच कर रही है| पुलिस हैकिंग का भी संदेह कर रही है और डिप्टी कलेक्टर पूजा तिवारी के फोन की भी पुलिस ये जांच कर रही है कि कहीं उनके मोबाइल पर किसी ने छेड़छाड़ तो नहीं की। पुलिस को इस मामले में कुछ नंबर हाथ लगे हैं, जिससे इस स्क्रीन शॉट को वायरल किया गया है। साइबर सेल ने उन संदिग्ध नंबरों को ट्रैकिंग पर रखा है। जांच में ये बात भी सामने आई है कि चैटिंग का जो शॉट वायरल हो रहा है दरअसल वह स्क्रीन शॉट नहीं है बल्कि मोबाइल को सामने रखकर उसका फोटो खींचा गया है।  


वायरल स्क्रीन शॉट में यह बातचीत

डिप्टी कलेक्टर: मैम दो सेक्टर में सिचुएशन कण्ट्रोल है, बट जैतपुर की नहीं हो पा रही है| कांग्रेस लीड बना रही है एन्ड उमा धुर्वे के समर्थक काफी हैं| 

कलेक्टर: मुझे कांग्रेस क्लीन स्वीप चाहिए| मैं आरओ डेहरिया को फ़ोन कर देती हूँ | पूजा तुम्हे एसडीएम का चार्ज लेना है तो जैतपुर में बीजेपी को विन कराओ 

डिप्टी कलेक्टर: ओके मैम मैं मैनेज करती हूँ, बट कोई इन्क्वायरी तो नहीं होगी| 

कलेक्टर: मैं हूँ| मेहनत कर रही हो तो बीजेपी गवर्नमेंट बनते ही तुम्हे एसडीएम का चार्ज मिलेगा| 


सोशल मीडिया पर वायरल हुए इस मैसेज के बाद डिप्टी कलेक्टर पूजा तिवारी ने कोतवाली थाने में एफआईआर दर्ज करवाई है| पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ आईटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है| 


"To get the latest news update download tha app"