Breaking News
शिवराज कैबिनेट के फैसले, यहां पढ़िए विस्तार से | मुख्य सचिव बीपी सिंह को मिला एक्सटेंशन, दिसंबर तक बने रहेंगे प्रशासनिक मुखिया | MP : कल इंदौर आएंगे प्रधानमंत्री मोदी, ऐसा रहेगा कार्यक्रम | भोपाल की घटना ने साबित कर दिया, मप्र की कानून व्यवस्था जंगलराज से भी बदतर हो गई है: सिंधिया | दिग्विजय ने शिवराज को लिखा पत्र! | MP : दूषित खाना खाने से 22 छात्राओं की तबीयत बिगड़ी, मचा हड़कंप | VIDEO : रुठो को मनाने निकले दिग्विजय, कांग्रेसियों से की एकजुट होने की अपील | दलित किसान को जिंदा जलाने का मामला : अब SIT करेगी पूरे मामले की जांच | मोदी की सभा : प्रोटोकॉल को देखते हुए नेहरु स्टेडियम में बन रहा 'अस्थाई PMO कार्यालय' | क्या चौधरी राकेश को टिकट देगी भाजपा |

VIDEO : मंदसौर के तेलिया तालाब को बचाने भोपाल में शिवसेना ने फिर शुरु किया जल-सत्याग्रह

भोपाल

मंदसौर के तेलिया तालाब को बचाने का मामला एक बार फिर तूल पकड़ता जा रहा है।इसको लेकर आज  एक बार फिर शिवसेना ने राजधानी भोपाल में जल सत्याग्रह शुरू कर दिया है। शीतलदास की बगिया स्थित बडा तालाब में शिवसैनिक जल सत्यागृह कर रहे है।उनका आरोप है कि राज्य सरकार के आदेश के बाद भी इस मामले की जांच नही की जा रही है।

दरअसल, आज एक बार फिर राजधानी भोपाल के शीतलदास की बगिया स्थित बडा तालाब में शिवसैनिक ने मन्दसौर के तेलिया तालाब को अतिक्रमण से बचाने जलसत्याग्रह शुरु कर दिया है।शिव सेना का आरोप है कि राज्य सरकार द्वारा तेलिया तालाब मंदसौर के जांच के आदेश देने के बावजूद भी यहां आज तक जांच नही बैठाई गई है।मामला अब तक ठंडे बस्ते में पड़ा हुआ है। सरकार का ध्यान आकर्षित कराने के शिव सेना मप्र उपराज्य प्रमुख क्रान्तिकारी सुनिल शर्मा और मोहन राठौर ने ये सत्याग्रह फिर से शुरु कर दिया है।

वहीं इसके पहले भी सुनील शर्मा ने राजधानी भोपाल में सीएम हाउस के पास तालाब में जल सत्याग्रह शुरू कर दिया था और मांग की थी कि तेलिया तालाब की डूब क्षेत्र की 484 बीघा जमीन पटवारी रिकार्ड में तालाब के नाम दर्ज किया जाए और तेलिया तालाब की जमीन पर भराव करने वालों पर कानूनी कारवाई कर अतिक्रमण हटाया जाएं। तब सीएम शिवराजसिंह चौहान ने भी इस मामले में आश्वासन दिया था। लेकिन अब तक फाइलें यहां से वहाँ घूम रही है, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई है।जिसको लेकर एक बार फिर सुनील शर्मा ने सरकार को जागने और अपनी बात याद दिलाने के लिए जल सत्याग्रह शुरु कर दिया है।

   गौरतलब है कि बता दे कि लम्बे समय से यह मामला गर्माया हुआ।  इसको लेकर कई आंदोलन और अभियान भी चलाये जा चुके हैं।  आरोप है कि मंदसौर के अतिप्राचीन पेयजल स्रोत तेलिया तालाब की ग्रीन बेल्ट की 484 बीघा जमीन में से लगभग 140 बीघा जमीन सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के विपरीत तत्कालिन कलेक्टर स्वतंत्र कुमार सिंह ने डूब से बाहर निकाल दी है। तालाब को धीरे-धीरे समाप्त किया जा रहा है। यहां की भूमि को अतिक्रमण कर गायब किया जा रहा है। वही आरोप है कि भाजपा के विधायक और सांसद ने 100 बीघा जमीन पर कब्जा किया है। तत्कालीन कलेक्टर ने 6 जून जिस दिन किसान गोलकांड हुआ था, उसी दिन आदेश पर हस्ताक्षर किये थे।  


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...