नायब तहसीलदार के पैरों में गिर महिला ने लगाई न्याय की गुहार- साहब! जमीन वापस दिलवा दो

मंदसौर।

मध्यप्रदेश के मंदसौर के गांधी चौराहा पर गुरुवार को एक परिवार ने कब्जेदार व पटवारी की प्रताड़ना से तंग आकर धरना दे दिया। घटना की सूचना जैसे ही नायब तहसीलदार वैभव जैन को लगी वे भी मौके पर पहुंच गए। तहसीलदार को देख  महिला जैन के पैरों में गिर गई और न्याय की गुहार लगाने लगी। इस दौरान उनके समर्थन में किसान नेता भगतसिंह बोराना भी यहां पहुंचे और धरना दिया।बोराना ने अधिकारियों से कहा कि यदि किसान की समस्या का समाधान नहीं हुआ तो हमारा संगठन धरने पर बैठेगा। इस पर जैन के समझाइश देकर कहा कि आप घर जाइये, मैं टीम के साथ आकर कब्जा हटाने की कार्रवाई करता हूं।

धरने पर बैठी लीलाबाई का आरोप है कि उसकी एक जमीन थी जिसके सहारे वह परिवार गुजर-बसर करती थी, लेकिन गांव के पटवारी ने यह जमीन गांव के दबंग बालू के नाम पर कर दी। कागजों की हेराफेरी की शिकायत करने के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं हुई जिसके बाद हताश परिवार धरने पर बैठ गए।महिला का आरोप है कि पटवारी केसी सूर्यवंशी ने उसके जमीन को रसूखदार लोगों के नाम पर कर दिया है। महिला ने कई दिनों तक तहसील कार्यालय और पटवारी के चक्कर लगाए, लेकिन कहीं सुनवाई नहीं हुई।

इस दौरान मौके पर महिला को समझाने पहुंचे नायब तहसीलदार वैभव जैन जब महिला से बात कर रहे थे, तभी महिला ने उनके दोनों पैर पकड़ लिए। महिला ने कहा मुझे मेरी जमीन का हक दिलवा दो। मैं आपके पैर तभी छोडूंगी जब मुझे मेरी जमीन मिलेगी। इसके बाद तहसीलदार ने मौके पर जाकर समस्या का समाधान कराने की बात कही।तहसीलदार वैभव जैन का कहना है जमीन विवाद के चलते धरने पर बैठे इन लोगों को वह समझाने आए थे इनकी बात उन्होंने सुनी है और जांच कर के नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी






"To get the latest news update download the app"