Breaking News
शिवराज कैबिनेट की अहम बैठक कल, इन प्रस्तावों पर लग सकती है मुहर | मौसम विभाग का अलर्ट, मप्र के इन जिलों में हो सकती है भारी बारिश | VIDEO : बिल्डिंग पर चढ़ आत्महत्या की धमकी देने लगा आरोपी, 4 घंटे चला हंगामा, पुलिस के हाथ पांव फूले | भाजपा नेता की गुंडागर्दी, चौकी प्रभारी को सरेआम पीटा, मामला दर्ज | दुष्कर्म के बाद 5 साल की मासूम की हत्या, घर के ही सेप्टिक टैंक में फेंकी लाश | ई-टेंडर घोटाला : जांच के लिए CFSL भेजी जाएगी हार्ड डिस्क | 21 अगस्त को भोपाल मे होने वाली 'अटल जी' की श्रद्धांजलि सभा में कांग्रेस भी होगी शामिल | 23 हजार ग्राम पंचायत और सभी शहरों में होंगी अटलजी की श्रद्धाजलि सभाएं | चुनाव से पहले यात्राओं का दौर, दिग्विजय के बाद जयवर्धन ने शुरू की पदयात्रा | नायब तहसीलदार का छलका दर्द, "संवर्ण हूँ इसलिए भुगत रहा सजा" |

SC/ST एक्ट : हिंसा के बीच यहाँ दिखा विरोध का अनूठा अंदाज

बुरहानपुर

एक तरफ जहां देशभर में एससी-एसटी एक्ट में बदलाव के फैसले को लेकर विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है, पथराव व तोड़फोड़-आगजनी की घटनाएं सामने आ रही है, वही दूसरी तरफ मध्यप्रदेश के बुरहानपुर में शांति से लोगों को गुलाब का फूल देकर इसका विरोध किया गया और लोगों से समर्थन मांग गया ।

बुरहानपुर के लोगों ने सबसे पहले  पैदल व दोपहिया वाहनों से शहर का भ्रमण शुरू किया और लोगों से दुकारन बंद कराने की अपील की है। वही जो दुकाने खुली हुई थी उन्हें गुलाब का फूल देकर दुकान बंद रखने की बात कही। इसके साथ ही दलित संगठनों ने शहरवासियों से इस एक्ट के बदलाव के विरोध में समर्थन मांगा और नारे बाजी की। इस दौरान जयभीम सेना और भीम आर्मी सेना के लोग दुकान बंद करवाने शहर में घूमे और दुकानदारों से कारोबार एक दिन बंद रखने का गुजारिश करते हुए दिखे। हालांकि विवाद और उपद्रव जैसा माहौल नही है, फिर भी पुलिस द्वारा सुरक्षा और सर्तकता के लिए चप्पे-चप्पे पर पुलिस बल तैनात किया गया है। इसके बाद रैली के रूप में आंबेडकर प्रतिमा के पास पहुंचे और फिर यहां से सभी अपने-अपने घर रवाना हो गए। भारत बंद को देखते हुए बस स्टैंड पर भी सन्नाटा पसरा रहा। दोपहर बाद मार्केट और बसों का संचालन होगा।

सुप्रीम कोर्ट ने क्या फैसला दिया था

एससी-एसटी एक्ट में बदलाव पर सुप्रीम कोर्ट ने अहम फैसला सुनाया था। फैसले में कहा गया था कि  आरोपों पर तुरंत गिरफ्तारी नहीं की जाए। पहले आरोपों की जांच जरूरी है। जांच करने के बाद ही केस दर्ज। DSP स्तर का अधिकारी करेंगे आरोपों की जांच। गिरफ्तारी से पहले जमानत संभव। अग्रिम जमानत भी मिल सकेगी। सीनियर अफसर की इजाज़त के बाद ही सरकारी अधिकारियों की गिरफ्तारी होगी।

सीएम शिवराज ने की शान्ति बनाये रखने की अपील 

प्रदेश में भड़की इस हिंसा और उपद्रव को देखते हुए मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर सभी से शांति की अपील की है। उन्होंने ट्वीटर के माध्यम से कहा है कि भारत सरकार द्वारा आज सप्रीम कोर्ट में रिव्यू पिटीशन फ़ाइल कर दी गयी है। जनता से अनुरोध है कि वो कृपया शान्ति बनाए रखें। हमारी सरकार अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के अधिकारों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है।


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...