Breaking News
पिपलिया मंडी बैंक डकैती मामले में SIMI आतंकी अबू फैजल सहित अन्य साथियों को उम्रकैद की सजा | भाजपा विधायक के बेटों पर उत्तर प्रदेश में हुई FIR दर्ज | शिवराज का तीखा हमला "दिग्विजय की हो गई मति भ्रष्ट, जब देखो हिंदू आतंकवाद" | विकल्प मिलते ही खाली करुंगी बंगला : उमा भारती | International Yoga Day : सजायाफ्ता कैदियों ने भी किया योग, जमकर लगाए ठहाके | मोदी के कार्यक्रम में शामिल होने गुलाब का फूल देकर लोगों को निमंत्रण दे रही भाजपा | नेता प्रतिपक्ष ने पीएम को लिखा पत्र, ई-टेंडरिंग घोटाले की हो निष्पक्ष जांच | मलेशिया में फंसा एमपी का युवक, परिवार ने विदेश मंत्री से लगाई मदद की गुहार | पासपोर्ट बनवाने पहुंचे दंपती, अधिकारी ने दी धर्म बदलने की नसीहत, ट्रांसफर | सुषमा के संसदीय क्षेत्र में किसान पुत्र ने दी आत्महत्या की धमकी...1 घंटे में मिला फसल का पैसा |

अब नंदकुमार को किसानों ने लौटाया बैरंग, देखें वीडियो

बुरहानपुर

जनप्रतिनिधियों विशेषकर विधायक और सांसदों के खिलाफ मध्य प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में एक के बाद एक कर जनाक्रोश साफ तौर पर दिखाई दे रहा है। कुछ दिन पहले ही शहडोल के सांसद ज्ञान सिंह, मंडला के सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते और मुरैना के सांसद अनूप मिश्रा को जन आक्रोश का सामना करना पड़ा था और जनता ने उनके कार्यक्रम का बहिष्कार कर दिया था ।ताजा मामला बुरहानपुर के पातौङा गांव का है जहां एक और 6 जून को आंधी और बारिश से नष्ट हुई केले की फसल देखने पहुंचे बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और वर्तमान में क्षेत्रीय सांसद नंदकुमार चौहान को किसानों ने बैरंग लौटा दिया। दरअसल किसानों की मांग थी कि उन्हें राहत राशि का मुआवजा प्रति एकड़ के हिसाब से नहीं बल्कि केली के प्रत्येक पौधे के हिसाब से दिया जाए जो वर्तमान नियमों में संभव नहीं है। क्षेत्रीय सांसद जनता के सामने गिड़गिड़ाते रहे कि मैं आपकी परेशानी देखने आया हूं। मैं भी किसान का बेटा हूं लेकिन लोगों ने एक न सुनी और उन्हें वापस जाने पर मजबूर कर दिया। ऐन विधानसभा चुनाव के ठीक पहले सत्ताधारी पार्टी के जनप्रतिनिधियों के प्रति जनता का यह रवैया सरकार के प्रति एंटी इनकंबेंसी का भी प्रतीक है।


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...