Breaking News
जूडा का अनोखा विरोध, MYH के सामने लगाई समानांतर ओपीडी | संगठन नहीं शिवराज के चेहरे पर ही चुनाव लड़ेगी भाजपा | अटकलों पर लगा विराम, किसी भी कीमत पर नही बिकेगा किशोर कुमार का पुश्तैनी घर | अंतर्राज्यीय चंदन तस्कर गिरोह का पर्दाफाश, वर्दी का रौब दिखाकर करते थे तस्करी | शर्मनाक : 4 साल की मासूम से दुष्कर्म की कोशिश, आइसक्रीम का लालच देकर ले गया था आरोपी | दर्दनाक हादसा : स्कूल जा रहे बच्चों को ट्रक ने रौंदा, मौके पर मौत, | नपा के खिलाफ ठेकेदार ने शुरु की लोटन यात्रा, CMO बोले- नही मिलेगा एक भी पैसा | VIDEO : सरकार के खिलाफ कांग्रेस का अनोखा प्रदर्शन, आम चूसकर गुठलियां फेंकी | शिवराज जी, आप चिंता छोड़ जनआशीर्वाद यात्रा निकाले, मैं जनता को बताउंगा सच्चाई : कमलनाथ | आज से जूडा का आंदोलन शुरु, मांगे पूरी ना होने पर दी हड़ताल की चेतावनी |

नामांतरण के नाम पर किसान से रिश्वत मांग रहा था पटवारी, लोकायुक्त ने रंगेहाथों धरा

छतरपुर।

मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार चाहे भ्रष्टाचार खत्म करने के लाख दावें कर लें, लेकिन इसके बावजूद सरकारी कर्मचारी अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे। इसी कड़ी में ताजा मामला छतरपुर जिले के बिजावर से सामने आया है। यहां एक पटवारी को किसान से रिश्वत लेते हुए रंगेहाथों गिरफ्तार किया गया है। आरोप है कि पटवारी किसान से नामांतरण के नाम रिश्वत मांग रहा था।

जानकारी के अनुसार, किसान अभीतेंद्र परमार बिजवार तहसील के कदवारा में पदस्थ  पटवारी रामप्रसाद पटेल के पास नामांतरण कराने केपहुंचा था, जहां पटवारी ने इसके एवज में पांच हजार रिश्वत की मांग की।किसान ने इसकी शिकायत सागर लोकायुक्त से की। लोकायुक्त ने योजना बनाकर किसान को रिश्वत के पांच हजार लेकर पटवारी के पास भेजा।  जैसे ही पटवारी ने रिश्वत के पांच हजार किसान से लिए वैसे ही पीछे से लोकायुक्त टीम ने उसे रंगे हाथों पकड़ लिया। इसके बाद लोकायुक्त ने जब पटवारी के हाथ धुलवाए तो वह गुलाबी हो गए। हालांकि आरोपी इसे अपने खिलाफ षड्यंत्र बताता रहा।लोकायुक्त टीम ने आरोपी के खिलाफ भ्रष्टाचार अधिनियम की धाराओं के तहत कार्यवाही की है। फिलहाल मामले की जांच की जा रही है।


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...