Breaking News
चुनाव से पहले शिवराज पुत्र राजनीति में सक्रिय, कांग्रेस नेताओं को बताया राजनैतिक मेंढक | मानसून सत्र छोटा रख सदन में चर्चा से बचना चाह रही शिवराज सरकार : कमलनाथ | नेता प्रतिपक्ष ने विधानसभा अध्यक्ष को लिखा पत्र! | VIDEO : अविश्वास की आरोप कथा, अर्जुन सिंह को दी गयी नशीली दवाएं ? | फर्जी पासपोर्ट मामला : एयरपोर्ट से पकड़ाया नाइजीरियन नागरिक दोषी करार, कोर्ट ने सुनाई सजा | बिजली कर्मचारियों की चेतावनी -10 दिन में नियमित करो, नही तो करेंगें प्रदेशभर में काम बंद | कलेक्टर को देख भागे रेत माफिया..! | MP : 11 हजार करोड़ का अनूपूरक बजट विधानसभा में पेश, मंगलवार को होगी चर्चा | दीपिका कुमारी ने रचा इतिहास, 6 साल बाद भारत को दिलाया वर्ल्ड कप में गोल्ड | पहल बनी मिसाल : ये स्कूल हुआ तम्बाकू मुक्त, बच्चे करते हैं निगरानी |

घायल को मृत बताकर मरचुरी में रखवाया, पोस्टमार्टम से पहले चलने लगी सांसें

छिंदवाड़ा|  मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा जिले में हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है| यहां जिला अस्पताल में जिंदा युवक को मृत बताकर उसे शव गृह में रखवा दिया। लेकिन जब उसे पोस्टमार्टम के लिए ले जाने लगे तो परिजनों ने देखा कि उसकी सांस चल रही है। इस खबर से हड़कंप मच गया| डाक्टर ने जब चेक किया तो सांसें चल रही थी, जिसके बाद घायल को मरचुरी से बाहर निकाल कर वार्ड में भर्ती किया गया उसके बाद इलाज के लिए नागपुर रेफर कर दिया गया ।  जिला अस्पताल की बड़ी लापरवाही उजागर हुई है, इस घटनाक्रम के बाद परिजनों ने जमकर आक्रोश दिखाया| 

दरअसल, पूरा मामला यह है रविवार शाम 7 बजे हिंगलाज मन्दिर अम्बाडा के पास हिमांशु भरद्वाज प्रोफेसर कालोनी निवासी सड़क हादसे में घायल हो गए थे उन्हें जल्द घटना से प्राथमिक उपचार के लिए निजी अस्पताल लाया गया था हालत गंभीर होने के कारण नागपुर के न्यूरान हॉस्पिटल ले जाया गया लेकिन न्यूरान के डाक्टरों ने माइंडडेथ बताकर घायल को वापस भेज दिया | उसके बाद परिजनों ने जिला अस्पताल लाया यहां डाक्टरों की लापरवाही सामने आई | घायल को मरचुरी में रखवा दिया और जब सुबह डक्टर निर्णय पांडे पोस्टमार्टम करने पहुचे तो मृत बताए मरीज की साँसे चल रही थी | आनन फानन में मरीज को इलाज के लिए वार्ड में भर्ती कराया उसके बाद डाक्टरों ने नागपुर रेफर कर दिया | इस घटना की जानकारी जिसको भी लगी वो अस्पताल पहुचने लगे अस्पताल में काफी भीड़ होते देख पुलिस भी पहुच चुकी थी ।  अस्पताल के डॉक्टर गेडाम का कहना है की ब्रेनडेड होने के कारण साँसे रुक जाती है दोबारा वापस आ गई । लेकिन डाक्टरों ने  अपनी लापरवाही स्वीकार नही की । घटना के बाद से परिजनों में आक्रोश है, इस घटना ने छिंदवाड़ा जिला अस्पताल में काम कर रहे डॉक्टरों की लापरवाही भी उजागर कर दी है। 


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...