भविष्य बताने वाले बाबा के झांसे में फंसा युवक, पुत्र प्राप्ति और गढ़े धन के लालच में ठगे 15 लाख

छिंदवाड़ा।

लोग भले ही शिक्षित हो चुके है, लेकिन आज भी अंधविश्वास लोगों के मन से बसा हुआ है। इसी अंधविश्वास के चलते लोग कुछ भी करने को मजबूर हो जाते है और अंत में सच सामने आने के बाद खुद को ठगा सा महसूस करते है। कभी कभी ऐसे मामलों में लोगों की जान पर बन आती है। ताजा मामला छिंदवाड़ा जिले के तीनखेड़ा गांव का है। जहां एक व्यक्ति बाबा के चक्कर में पड़ गया और बाबा ने उसे घर में धन गड़ा होने की लालच देकर उससे 14 लाख 73 हजार रुपए ऐंठ लिए।सच सामने आने के बाद उसने पुलिस से इसकी शिकायत की। फिलहाल पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ ठगी का मामला दर्ज कर जांच शुरु कर दी है।घटना लोधीखेड़ा थाना क्षेत्र की है।

जानकारी के अनुसार, कुछ महिने पहले  तीनखेड़ा निवासी कमलाकर पिता पंढरी जिचकार के घर के सामने एक भविष्य बताने वाला बाबा जगदीश गोस्वामी आया था।उसने बाबा को अपना भविष्य बताने के लिए कहा। बाबा ने उसका भविष्य बताते हुए कुछ बातें बताई जो सही निकली। बाते सच होने पर कमलाकर को बाबा पर यकीन हो गया। कमलाकर ने बाबा के झांसे में आकर बताया कि उसकी शादी को तेराह साल हो चुके है ,लेकिन अब तक उसे बेटा नही हुआ है। सिर्फ एक बेटी है।बाबा जगदीश ने कमलाकर से दवा के नाम पर 3 लाख 47 हजार रुपए मांगे औऱ उसने दे भी दिए।इसके बाद आरोपी जगदीश ने अपने अन्य साथी ताजुद्दीन बाबा आयुर्वेदिक औषद्यालय सावनेर की किरण बाई के साथ मिलकर घर में धन गड़ा होने का झांसा पुनः कमलाकर को दिया। कमलाकर आरोपियों के झांसे में आया और उसने पुनः रुपए आरोपियों के खाते में जमा कर दी।कमलाकर ने बाबा को कुल 14 लाख 73 हजार रुपए दे दिए।  जब काफी दिनों तक उसे लाभ नहीं हुआ। इस पर उसने बाबा से संपर्क किया लेकिन नहीं हो पाया। इसके बाद पीड़ित ने आरोपित जगदीश गोस्वामी, किरण बाई सहित अन्य आरोपियों के खिलाफ धारा 420, 120 बी का अपराध कायम कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी।

परिजनों का आरोप है कि बाबा ने कमलाकर को अपने वश में कर लिया था जिसके कारण वह किसी की कोई भी बात सुनने को तैयार नही था।जब ठगी हुई और बहुत दिनों तक बाबा सामने नही आए तब इस बात का खुलासा हुआ । इसके बाद पुलिस को रिपोर्ट दर्ज करवाई गई। फिलहाल पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरु कर दी है।