UP से आकर MP में देते थे लूट की वारदातों को अंजाम, अंतर्राज्यीय गिरोह के तीन सरगना गिरफ्तार

दमोह

मध्यप्रदेश की दमोह पुलिस ने अंतर्राज्यीय लूट के गिरोह के तीन सरगनाओं को पकड़ने में बड़ी सफलता हासिल की है। इन पर पुलिस ने 40  हजार का इनाम भी रखा था। यह लुटेरे उत्तर प्रदेश से आकर मध्यप्रदेश के अनेक जिलों में लूट की घटना को अंजाम देते है। पुलिस ने तीनों आरोपियों के पास से एक बारह बोर का देशी कटटा, एक 315 बोर का देशी कटटा, एक माउजर के साथ मोबाईल एवं पैसे बरामद किए है। इसके अलावा पुलिस ने वारदातों को अंजाम देने वाली उत्तरप्रदेश पासिंग चोरी की ही तीन मोटर साईकिल भी जब्त की है। बता दे कि ये वही लूटेरे है जिन्होंने दमोह के राय चौराहे पर किसान से 2  लाख 70  हजार की लूट की थी।

जानकारी के अनुसार,13 फरवरी को दमोह के  राय चौराहा पर छोटी देवी मंदिर के सामने एक किसान से दो लाख 70 हजार रुपए की लूट की गई थी।किसान ने कोतवाली थाना में इसकी रिपोर्ट करवाई थी। पुलिस ने मामले की जांच शुरु कर दी थी और हर आने-जाने वाले पर महिनों से नजर जमाए रखी, सीसीटीवी फुटेज भी खंगाले, जहां जहां वारदाते हुए वहां की रैकी की। इसी कड़ी में  मुखबिर ने पुलिस को सूचना दी कि शुकवार ये लोग एक बार फिर लूट की फिराक से यूपी से मप्र के दमोह पहुंचे हे।  इसी दौरान मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने तीन आरोपी एवं उत्तर प्रदेश के निगरानीशुदा बदमाश लुटेरे अवधेश कंजर, मुकेश कंजर एवं शमशेर कंजर को वारदात से पहले ही दबोच लिया। पुलिस ने जब इनसे सख्ती से पूछताछ की तो उन्होंने अपना जुर्म और सारी वारदातें काबूल कर ली। आरोपी रीवा 2,कटनी में 3 और दमोह में पहली वारदात को अंजाम दे चुके थे। इन आरोपियों से पुलिस ने एक माउंजर, दो कट्‌टा, छह मोबाइल, तीन बाइकें और 27 हजार रुपए जब्त किए हैं। पुलिस इन्हें कोर्ट में पेश करके रिमांड पर लेने जा रही है। 

पुलिस ने बताया कि इस वारदात को उत्तरप्रदेश के बाराबंकी जिले के बहैडपुरवा थाना के कुरसी निवासी अवधेश पिता भगत सिंह कंजर 34, वाराणसी फुलबरिया थाना के अहराबीर बाबा मंदिर निवासी मुकेश कंजर 30 और गौरखपुर झंगहा तहसील चौरीचोरा गांव निवासी शमशेर कंजर 30 ने मिलकर अंजाम दिया था। जिसमें अवधेश और मुकेश ने वारदात को अंजाम दिया था, जबकि शमशेर ने रैकी थी। आरोपियों ने इससे पहले उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश और राजस्थान में लूट की तीन दर्जन से ज्यादा वारदातों को अंजाम दिया था। पुलिस अधीक्षक की ओर से इस मामले में यह सफलता पाने वाले पुलिस कर्मियों को 10 हजार, आईजी सागर की ओर से 25 हजार की इनाम राशि से सम्मानित किया जाएगा.