Breaking News
प्रशासन बता रहा 'डेंगू' छुआछूत की बीमारी | किसकी होगी पूरी मुराद, आज महाकाल के दर पर सिंधिया-शिवराज | सड़क पर सियासत : कमलनाथ बोले- बुधनी से अच्छी छिंदवाड़ा की सड़कें, शिवराज जी एक बार जरुर आए | सुल्तानगढ़ वॉटरफॉल हादसा : मौत से संघर्ष के बाद भी कैसे हार गई 9 जिंदगियां, देखें वीडियो | शर्मसार : सागर में नाबालिग से गैंगरेप, बीते दिनों ही मिला था सबसे सुरक्षित शहर का तमगा | कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने लिया विस चुनाव में भाजपा को उखाड़ फेंकने का संकल्प | केंद्रीय मंत्री की बहन को एसिड अटैक और मारने की धमकी | खाना खाने के बाद बिगड़ी तबियत, दो सगी बहनों की मौत, मां की हालत गंभीर | पूर्व राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा की जन्मशताब्दी मनाएगी सरकार : शिवराज | अस्पताल के बच्चा वार्ड में लगी आग, मची अफरा-तफरी, 35 बच्चे थे भर्ती |

महिला भाजपा विधायक के बिगड़े बोल- वोट मांगने नहीं आई हूं, जो करना हो कर लेना

दमोह।

सत्ता के नशे में चूर चुनावी साल में भाजपा नेताओं के लगातार विवादित बयान सामने आ रहे है।अभी भाजपा सांसद ऊंटवाल और विधायक अमरसिंह यादव का  मामला शांत भी नही हुआ था कि एक और भाजपा विधायक का विवादित बयान सामने आया है। मामला दमोह जिले के हटा का है। यहां स्थानीय विधायक उमा देवी खटीक उस वक्त जनता पर भड़क उठी जब उन्होंने उनसे विकास के बारे में सवाल किया। गुस्साई महिला विधायक ने अपना आपा खो दिया और जनता से कहने लगी कि जो करना है कर लेना । मैं यहा वोट मांगने नही आई हूं। विधायक का ये विडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। विपक्ष ने इसको लेकर भाजपा पर निशाना भी साधा है।

जानकारी के अनुसार, शनिवार को दमोह जिले के हटा विधानसभा क्षेत्र के बिलाई गांव किसान सम्मान यात्रा का कार्यक्रम रखा गया था।जहां महिला भाजपा विधायक उमा देवी खटीक किसानों से मिलने पहुंची थी।कार्यक्रम के बाद जब किसानों ने विकास को लेकर महिला विधायक से सवाल पूछे तो विधायक इतनी भड़की उठी कि उन्होंने किसानों को ही उल्टा खरी खोटी सुना दी। उन्होंने भड़क कर जवाब दिया कि अभी चुनाव नहीं है, मैं यहां वोट मांगने नहीं आई हूं जो करना है कर लेना। और उनके इस बयान का वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है।वीडियो में भड़की विधायक से लोग शिकायत कर रहे है की चुनने के बाद वो उनके इलाके में सिर्फ तीन दफा आई है। विधायक लगातार दो बार से विधायक चुनी जा रही है और अपने दस सालों का लेखा जोखा बताने लगी तो पब्लिक के लोगों ने भी कह दिया की उन्हें चुना इसीलिए था की वो विकास करें।

 वीडियो के सोशल मीडिया पर वायरल होते ही विधायक उमा देवी ने सफाई पेश की है, उन्होंने कहा कि वे लोगों को विकास के बारे में ही बता रही थीं, लेकिन जब लोग चिल्लाने लगे तो उन्हें ये सब कहना पड़ा। इसके साथ ही विधायक ने ये भी कहा कि उन्होंने जो कुछ कहा उसमें कुछ भी गलत नहीं है।

गौरतलब है कि एक तरफ मुख्यमंत्री शिवराज चुनावी साल में किसानों की  नाराजगी को दूर करने की कोशिश में जुटे हैं, उनके लिए किसान सम्मान यात्रा निकाल रहे है,और दूसरी उनके विधायक विवादित बयान देकर नई मुश्किलें खड़ी करने मे लगे हुए है।अब देखना है कि विधायक की ये तल्खियत उनकी चुनावी सेहत में क्या असर डालती है।


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...