Breaking News
अधिकारी की कलेक्टर को नसीहत, 'आपकी कार्यशैली पर लज्जा आती है, तबादला करा लें' | दागियों का कटेगा टिकट, साफ-सुथरी छवि के नेताओं को चुनाव में उतारेगी भाजपा | फ्लॉप रहा कांग्रेस का 'घर वापसी' अभियान, सिर्फ कार्यकर्ता लौटे, नेताओं ने बनाई दूरी | शिवराज कैबिनेट की बैठक ख़त्म, इन प्रस्तावों पर लगी मुहर | सीएम चेहरे को लेकर सोशल मीडिया पर जंग, दिग्विजय भड़के | मुख्यमंत्री के काफिले पर पथराव, महिदपुर- नागदा के बीच की घटना, पुलिस वाहन के कांच फूटे | अब भोपाल में राहुल ने फिर मारी आंख, वीडियो वायरल | एमपी की 148 सीटों पर खतरा, बिगड़ सकता है बीजेपी का चुनावी गणित | LIVE: ऊपर से टपकने वाले को नहीं मिलेगा टिकट : राहुल गांधी | राहुल की सभा में उठी सिंधिया को सीएम कैंडिडेट घोषित करने की मांग |

शहीद रंजीत सिंह का पार्थिव शरीर पहुंचा रेव गांव, सैनिक सम्मान के साथ होगा अंतिम संस्कार

दतिया

 मध्यप्रदेश के दतिया जिले के शहीद जवान रंजीत सिंह तोमर का पार्थिव शरीर झांसी मार्ग से होते हुए उनके गांव रेव पहुंच चुका है। सैनिक सम्मान से उनका थोडी देर में अंतिम संस्कार किया जाएगा।  शहीद के घर लोगों के पहुंचने का सिलसिला जारी है। सेना के अधिकारी भी शहीद के गांव पहुंच गए हैं।घर में मातम छाया हुआ है। मां का रो-रोकर बुरा हाल है। लोग रंजीत की शहादत पर गर्व कर रहे थे।सीएम शिवराज सिंह और मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने शहीद सैनिक रंजीत सिंह को श्रद्धांजलि दी है। शहीद की अंत्येष्टि में मंत्री शामिल होंगे।

बता दे कि कश्मीर के कुपवाड़ा में पाकिस्तानी आतंकवादियों से आमने सामने की मुठभेड़ में शहीद रंजीत को पेट में गोली लग गई थी।  सेना की 28 आरआर रेजीमेंट में सैनिक के पद पर थे। करीब सात साल पहले उन्होंने आर्मी ज्वाइन की थी। उनके पिता प्रताप सिंह तोमर किसान हैं और घर में दो छोटे भाई है, जो फिलहाल पढ़ाई कर रहे हैं। रंजीत तीन भाइयों में दूसरे नबंर का थे। उसकी बचपन से ही सेना में भर्ती होकर देश की सेवा करने की इच्छा थी। 6 साल पहले जब शिवपुरी में सेना की भर्ती रैली आयोजित हुई तो वह पहले ही प्रयास में सेन्य सेवा के लिए चुन लिया गया।  5 साल का सैन्य प्रशिक्षण कश्मीर में पूरा करने के बाद 4 माह पहले ही रंजीत को झांसी में पदस्थ किया गया था।



  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...